बिलासपुर

बिलासपुर: सभापति ने बुलाई स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की बैठक…अंकित बोलें…ईलाज में कोताही बरतने वालो पर होगी कड़ी कार्यवाही…

बिलासपुर (ताज़ाख़बर36गढ़)। कोरोना काल में मरीजों की स्थिति और मेडिकल व्यवस्था को लेकर आज जिला पंचायत सभागार में स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण समिति के सभापति अंकित गौरहा के अध्यक्षता मे बैठक हुई। बैठक सीएमएचओ डॉ प्रमोद महाजन के अलावा डॉ. प्रदीप शुक्ला समेत महकमें के अन्य अधिकारी भी मौजूद थे। बैठक में जिला पंचायत अध्यक्ष अरूण चौहान ने भी जरूरी बातों को सबके सामने रखा।

जिला पंचायत सभागार में आज स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण समिति की जरूरी बैठक हुई। बैठक में समिति के अन्य सदस्य राजेश्वर भार्गव,घनश्याम कौशिक, किरण संतोष यादव, गोदावरी बाई कमलसेन, जानकी सर्राटी विशेष रूप से मौजूद थी। इस दौरान सदस्यों ने स्वास्थ्य महकमा प्रमुख सीएचएमओ प्रमोद महाजन से कोरोना काल में मरीजों की स्थितियों को लेकर जवाब सवाल किया साथ ही सभी सदस्यों ने कोरोना टेस्ट रिपोर्ट में लेट लतीफी को लेकर नाराजगी जाहिर किया। खासकर राजेश्वर भार्गव ने कुछ नाम के साथ बताया कि रिपोर्ट अभी तक आया नहीं है। जिससे जाहिर होता है कि कोरोना काल में स्वास्थ्य महकमें की तरफ से कहीं ना कहीं लापरवाही हो रही है।

सीएचएमओं ने आश्वासन दिया कि ऐसी शिकायत फिलहाल अभी नहीं मिली है। यदि कोई जानकारी देता है तो मामले को ना केवल गंभीरता से लेंगे। बल्कि लापरवाही पाए जाने पर कार्रवाई भी करेंगे। डॉ. प्रदीप शुक्ला ने बताया कि हमने शिकायत को नोट कर लिया है। बताए गए मरीज का पता लगाएंगे। जानकारी लेंगे की टेस्ट के बाद भी रिपोर्ट क्यों नहीं आया। सीएचएमओं ने स्पष्ट किया कि हम एक काल पर टेस्ट के लिए मौके पर पहुंच जाते हैं। जिनका टेस्ट नेगेटिव होता है उन्हें सूचना भी देते हैं। पाजीटिव का इलाज करते हैं। 

इस दौरान अन्य सदस्यों ने भी कुछ परेशानी और कुछ सुझाव भी पेश किए। बैठक के दौरान जिला पंचायत अध्यक्ष अरूण चौहान ने कहा कि हमें सजग रहना है। उम्मीद है कि आने वाले समय में किसी प्रकार की लापरवाही की पुनरावृत्ति नहीं होगी। साथ ही अध्यक्ष सभापति और सदस्यों ने दुहराया कि आने वाले समय बैठक के दौरान कोविड-19 अस्पताल का प्रतिनिधि भी बैठक में शामिल हो ताकि कोरोना पाजीटिव की वस्तुस्थिति की जानकारी जनता तक पहुंच सके।

बैठक में सभापति अंकित गौरहा ने कहा कि स्वास्थ्य महकमें को कोरोना के अलावा मौसमी बुखार और अन्य मरीजों को भी गंभीरता से लेना है। सीएचएमओं ने जानकारी दी कि सभी मरीजों का नियमित इलाज चल रहा है। कहीं किसी प्रकार की शिकायत नहीं है। यदि किसी को शिकायत है तो वह सम्पर्क कर अपनी बातों को रख सकता है। हम तत्काल कार्रवाई करेंगे। हम स्टाफ के साथ बैठक लेकर और व्यक्तिगत स्तर पर कोरोना समेत सभी मरीजों के इलाज को लेकर गंभीर हैं।

अंकित गौरहा के सवाल पर डॉ.प्रदीप शुक्ला और लता बंजारे ने स्वास्थ्य व्यवस्था की तैयारियों के बारे में बताया। दोनों ने जानकारी दी कि बिल्हा में 105, कोटा में 475,मस्तूरी में 456, तखतपुर में 435, बिलासपुर शहर में 419 को मिलाकर जिले में कुल 2493 मितानिन तैनात है। सभी मितानिनों के पास किट उपलब्ध है। मितानिनों को आवश्यक सामाग्रियों का वितरण जीएमएसी के माध्यम से विकासखण्डों और फिर मितानिनों को दिया जाता है। 

बैठक के बाद पत्रकारों से स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण समिति के सभापति ने कहा कि बैठक में स्वास्थ्य व्यवस्था को लेकर बातचीत हुई। अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि हम कोरोना मरीजों को गंभीरता से लेते हुए अन्य बीमारियों पर हमेशा की तरह फोकस रहें। मौसमी बीमारियों का तेजी प्रकोप बढ़ रहा है। ऐसे मरीजों को समुचित इलाज दिया जाना बहुत जरूरी है। साथ ही ऐसे लोगों को कोरोना से बचाने की भी आवश्यकता है। सीएचएमओ प्रमोद महाजन ने बेहतर व्यवस्था का दावा किया है।

गौरहा ने बताया कि हर स्तर पर मितानिनों की तैनाती है। थोड़ी बहुत शिकायत भी मिली है। अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि शिकायतों को दूर करते हुए आगामी बैठक में रिपोर्ट रखें। साथ ही कोरोना के साथ साथ अन्य मरीजों की भी गंभीरता के साथ इलाज करें। अधिकारियों ने जानकारी दी है कि सभी मितानिनों के पास पर्याप्त मात्रा में दवाई समेत मेडिकल सामाग्रियां उपलब्ध हैं।

Related Articles

Back to top button
Close
Close