बिलासपुर

बिलासपुर: कलेक्टर ने ली समय सीमा की बैठक, विकास और निर्माण कार्याें में प्रगति लाने के दिए निर्देश…

बिलासपुर। कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने आज जिला कलेक्टोरेट स्थित मंथन सभा कक्ष में साप्ताहिक समय-सीमा की बैठक ली। बैठक में उन्होंने जिले में विकास और निर्माण कार्याें की प्रगति के साथ ही राज्य शासन की फ्लैगशीप योजनाओं की विस्तार से समीक्षा की और संबंधितों को आवश्यक निर्देश दिए।

बैठक में कलेक्टर डॉ. मित्तर ने कहा कि कोविड-19 के कारण जिलों में मृत व्यक्तियों के परिजनों, आश्रितों को अनुदान सहायता राशि प्रदान करने के निर्देश शासन द्वारा दिए गए हैं। इसके लिए तहसील कार्यालय और नगर निगम क्षेत्र के सभी जोन कार्यालयों में आवेदन लिए जाएं। उन्होंने आवेदनों की स्क्रूटनी के लिए एसडीएम की अध्यक्षता में कमेटी बनाकर इस कार्य को प्राथमिकता से करने के निर्देश दिए। उन्होंने राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत् किसानों को फसल विवधीकरण के लिए प्रोत्साहित करने कहा। कृषि विभाग एवं उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि योजना के क्रियान्वयन में प्रगति लाएं। उद्यानिकी विभाग को सामुदायिक बाड़ी की संख्या बढ़ाने कहा। जल जीवन मिशन के कार्याें में प्रगति लाने के निर्देश लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग को दिए।
कलेक्टर ने राजीव गांधी ग्रामीण भूमिहीन कृषि मजदूर न्याय योजना की प्रगति की जानकारी ली। उन्होंने आवेदनों का सत्यापन कर शत प्रतिशत प्रविष्टि कराने के निर्देश दिए। गोधन न्याय योजना के तहत् वर्मी कम्पोस्ट का निर्माण में तेजी लाते हुए बिक्री बढ़ाने के निर्देश दिए। सार्वजनिक एवं निजी प्रतिष्ठानों को इसकी खरीदी के लिए प्रोत्साहित करने कहा। कलेक्टर ने मुख्यमंत्री हाट बाजार क्लिनिक योजना की समीक्षा करते हुए कहा कि क्लिनिक में हर प्रकार की दवा तथा जांच सुविधा उपलब्ध रहें। जिससे अधिक से अधिक लोगों को इस योजना से लाभान्वित किया जा सके। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने बताया कि हाट बाजार क्लिनिक योजना में प्रतिदिन औसतन 96 मरीजों का ईलाज किया जा रहा है। इसके अलावा लोक सेवा गांरटी, प्रगतिरत इंग्लिश मीडियम स्कूल, सुपोषण अभियान, राजस्व प्रकरणों सहित अन्य बिन्दुओं पर समीक्षा की गई।

बैठक में जिला पंचायत के मुख्यकार्यपालन अधिकारी हरिस एस, वनमंडलाधिकारी कुमार निशांत, अपर कलेक्टर जयश्री जैन, सभी एसडीएम, तहसीलदार एवं विभागीय अधिकारी मौजूद रहे।

Related Articles

Back to top button
Close
Close
Open chat