छत्तीसगढ़बिलासपुरराजनीति

कोरोना का खौफ: बिलासपुर मेयर रामशरण यादव और विधायक शैलेश पांडेय की सक्रियता कमाल की, सबके अपने-अपने तर्क…पढ़िए पूरी खबर…

कोरोना का खौफ: बिलासपुर मेयर रामशरण यादव और विधायक शैलेश पांडेय की सक्रियता कमाल की, सबके अपने-अपने तर्क...पढ़िए पूरी खबर...

बिलासपुर। पूरी दुनिया के साथ छत्तीसगढ़ में भी कोरोना वायरस ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। अब तक छत्तीसगढ़ में कोरोना के 6 पाजिटिव मरीज मिल चुके हैं। इसमें बिलासपुर की एक मरीज भी शामिल है। कोरोना से बचाव के लिए बिलासपुर जिले की जनता द्वारा चुने गए जनप्रतिनिधि क्या कर रहे हैं और अब तक अपनी ओर से किस तरह की सहायता पहुंचाई है। हमने इस बारे में जानने की कोशिश की तो चौंकाने वाले तथ्य सामने आए। कांग्रेसी जनप्रतिनिधियों को छोड़कर अन्य जनप्रतिनिधि घर सेल्फ आइसोलेट हो गए हैं। आइए जानते हैं अब तक किस जनप्रतिनिधि ने क्या किया:-

रजनीश सिंह, विधायक बेलतरा

बेलतरा विधानसभा से रजनीश सिंह ने बीजेपी के बैनर तले चुनाव जीता है। 22 मार्च जनता कर्फ्यू के बाद से ये अपने घर में ही कैद हैं। कोरोना वायरस को लेकर उनके क्षेत्र की जनता के मन में क्या चल रहा है, इसकी जानकारी उन्हें नहीं है। 22 मार्च से अब तक वे अपने विधानसभा क्षेत्र के गांवों में झांकने तक नहीं गए हैं। हमने जब उनसे पूछा कि कोरोना वायरस के बचाव के लिए उन्होंने अब तक अपने क्षेत्र में क्या किया, तो उनका जवाब था कि कार्यकर्ताओं की टीम बना दी गई है। हर रोज उनसे मोबाइल पर क्षेत्र की स्थिति का जायजा लेते रहते हैं।

डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी, विधायक मस्तूरी

पूर्व मंत्री डॉ. कृष्णमूर्ति बांधी भी बीजेपी से विधायक हैं। जनता कर्फ्यू के दिन यानी कि बीते रविवार से वे भी परिवार समेत घर में लॉक डाउन है। कोरोना के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए क्षेत्र के दौरे के सवाल पर उनका जवाब भी गजब का था। उनका कहना है कि मस्तूरी विधानसभा क्षेत्र से ज्यादातर लोग पलायन करते हैं। इसलिए मजदूरों का बाहरी प्रदेश में आना-जाना हमेशा लगा रहता है। वर्तमान में भी दूसरे प्रदेश से आ रहे हैं। इसलिए वहां जाना ठीक नहीं है। पांच-पांच कार्यकर्ताओं की टीम को क्षेत्र का दौरा कर स्थिति की जानकारी देने कहा गया है।

धरमलाल कौशिक, विधायक बिल्हा

बीजेपी से बिल्हा विधायक धरमलाल कौशिक विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी हैं। शुक्रवार को वे रायपुर में थे। जनता कर्फ्यू के दिन से अब तक क्षेत्र के किसी भी गांव का दौरा नहीं करने की बात उन्होंने स्वीकार की और इसकी वजह बताया कि यदि वे क्षेत्र का दौरा करने जाते हैं तो कार्यकर्ताओं की भीड़ उमड़ जाएगी। इसके चलते पब्लिक को परेशानी होगी और कोरोना वायरस के संक्रमण का खतरा अलग पैदा हो जाएगा। इसलिए उन्होंने भी विधानसभा क्षेत्र में पांच-पांच कार्यकर्ताओं की कई टीम बना दी है, जिन्हें क्षेत्र का दौरा करने की हिदायत दी गई है। टीम से वे रोजाना मोबाइल पर हालचाल जानते रहते हैं।

जोगी दंपती भी नहीं गए अपने क्षेत्र में

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ जे से जिले में दो विधायक चुनकर आए हैं। मरवाही से अजीत जोगी और कोटा उनकी पत्नी डॉ. रेणु जोगी। कोरोना वायरस के प्रति अलर्ट जारी होने के बाद से जोगी दंपती भी अपने-अपने विधानसभा क्षेत्र नहीं गए हैं। ये भी अपने घरों में लॉकडाउन हैं। उनका भी दावा है कि फोन से ही लाइनअप कर रहे हैं।

शैलेश पांडेय, विधायक बिलासपुर

बिलासपुर से कांग्रेस विधायक शैलेश पांडेय की सक्रियता की पूरे प्रदेश में तारीफ हो रही है। जिस दिन से कोरोना वायरस को लेकर जनता कर्फ्यू लागू हुआ था, उस दिन से वे अपनी जान की परवाह किए बगैर अपने विधानसभा के हरेक वार्ड का भ्रमण कर रहे हैं। लोगों को मास्क बांट रहे हैं। यही नहीं, जेल तक का निरीक्षण कर चुके हैं। प्रदेश में शैलेश पांडेय ही पहले विधायक हैं, जिन्होंने अपने एक माह का वेतन और अपनी निधि से दो लाख रुपए मुख्यमंत्री सहायता कोष में दान किया है। उनका कहना है कि ये किसी और की नहीं, हमारी और हमारे परिवार की लड़ाई है, जिसे हर हाल में जीतना है।

रामशरण यादव, मेयर बिलासपुर

बिलासपुर नगर निगम के भाजपा से मेयर रामशरण यादव की जिम्मेदारी सभी विधायकों से कुछ ज्यादा है, क्योंकि बिलासपुर नगर निगम में पूरा बिलासपुर विधानसभा क्षेत्र के अलावा चार अन्य विधानसभाओं का क्षेत्र शामिल है। जनता कर्फ्यू के दिन से ही मेयर रामशरण यादव लगातार वार्डों के भ्रमण पर निकल रहे हैं। अब तक वे 5 हजार मास्क बांट चुके हैं। कहीं से भी गंदगी और नाली जाम की शिकायत आई तो वे तत्काल वहां सफाई करा रहे हैं और संक्रमण रोकने के लिए छिड़काव करा रहे हैं। वार्डों में भ्ररण करते हुए लोगों को घरों में ही रहने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इन्होंने भी अपने एक माह का मानदेय मुख्यमंत्री सहायता कोष में दान कर दिया है।

रश्मि सिंह, विधायक तखतपुर

तखतपुर से कांग्रेस विधायक रश्मि सिंह भी कोरोना वायरस को देखते हुए घर में ही आइसोलेट हो गई हैं। अपने विधानसभा क्षेत्र में उन्होंने भी कार्यकर्ताओं की टीम बना दी है, जिन्हें जरूरतमंदों तक जरूरी सामग्री भेजने का जिम्मा दे रखा है। उनका कहना है कि यदि वह क्षेत्र में भ्रमण करेंगी तो कार्यकर्ता आएंगे। इससे स्थिति विकट हो जाएगी और प्रशासन को परेशानी होगी।

Related Articles

Back to top button
Close
Close