छत्तीसगढ़शिक्षा

बड़ी खबर: कोरबा के अग्रगमन सेंटर के 12वीं के छात्र-छात्राओं का प्रैक्टिकल अंक लीक…पी पटेल पर वाट्सग्रुप में वायरल करने का आरोप…सीएम से लेकर शिक्षा सचिव तक शिकायत…

कोरबा। करतला ब्लॉक स्थित शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला के प्राचार्य पुरुषोत्तम पटेल पर 12वीं के नतीजे निकलने से पहले ही प्रैक्टिकल अंक वाट्सग्रुप पर लीक करने का गंभीर आरोप लगा है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि प्राचार्य पुरुषोत्तम पटेल ने अपने स्कूल के वाट्सएप ग्रुप में अग्रगमन केंद्र में अध्ययनरत छात्रों के प्रायोगिक अंक की सूची वायरल कर दी है। इससे माध्यमिक शिक्षा मंडल की गोपनीयता भंग हो गई है। नतीजे निकलने से पहले ही छात्रों को प्रैक्टिकल अंक के बारे में पता चल गया है।

शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत भारतीय डाक से 3 जून 2020 को शिक्षा संभाग बिलासपुर के संयुक्त संचालक के नाम पोस्ट की है। शिकायतकर्ता ने बताया है कि माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर छत्तीसगढ़ शासन ने सत्र 2019-20 में बोर्ड कक्षाओं की प्रायोगिक परीक्षाएं सभी हाईस्कूल और हायरसेकेंडरी स्कूलों में जनवरी 2020 में आयोजित कराई थीं, जिसके नतीजे वार्षिक परीक्षाओं के परिणाम के साथ 15 जून के बाद जारी किए जाएंगे। शिकायतकर्ता का आरोप है कि नतीजे जारी होने से पहले ही शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला तुमान के प्राचार्य पुरुषोत्तम पटेल ने अग्रगमन कोचिंग सह अध्ययन केंद्र में 12वीं में अध्ययनरत छात्रों को दिए गए प्रैक्टिकल अंक को सार्वजनिक कर दिया है। उन्होंने अपने मोबाइल नंबर 9302972487 से 23 जनवरी 2020 को दोपहर 1:11 बजे अपने स्कूल के वाट्सएप ग्रुप में सभी छात्रों के प्रैक्टिकल अंक की सूची वायरल कर दी है, जिसमें स्कूल स्टॉफ के अलावा कई छात्र-छात्राएं जुड़े हुए हैं। इसके चलते वार्षिक परीक्षा के नतीजे निकलने से पहले ही अग्रगमन सेंटर में पढ़ने वाले सभी छात्रों को अपना प्रैक्टिकल अंक पता चल गया है। शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में वाट्सएप ग्रुप में वायरल की गई सूची को संलग्न किया है। शिकायत की प्रतिलिपि मुख्यमंत्री, शिक्षामंत्री, स्कूल शिक्षा सचिव, माध्यमिक शिक्षा मंडल के सचिव, लोक शिक्षण संचालनालय के आयुक्त, क्षेत्रीय कार्यालय बिलासपुर के संभागीय अधिकारी, बिलासपुर कमिश्नर और कोरबा कलेक्टर को प्रेषित की है, जिसमें कहा गया है कि प्राचार्य पुरुषोत्तम पटेल ने अपने मोबाइल नंबर से वाट्सएप ग्रुप पर नतीजे निकलने से पहले ही प्रायोगिक परिणाम को भेजकर गोपनीयता भंग की है, जो आपराधिक कृत्य की श्रेणी में आता है। इसलिए प्राचार्य को बर्खास्त कर एफआईआर कराई जाए। शिकायतकर्ता ने मीडिया को भी शिकायत की एक कापी उपलब्ध कराई है, जिसमें एक वाट्सएप ग्रुप में वायरल किए गए प्रैक्टिकल अंकों की सूची का स्क्रीन शॉट संलग्न है, जिसे देखने से पता चलता है कि एचएसएस तुमान स्टॉफ के नाम से बनाए गए वाट्सग्रुप में पी पटेल सर (रिम) के नाम से जिनका नंबर सेव है, उन्होंने प्रैक्टिकल अंकों की सूची वायरल की है, जिसमें अग्रगमन स्कूल में अध्ययनरत सभी छात्रों को एक समान अंक दिए गए हैं। गोपनीयता की दृष्टि से हम वायरल सूची को प्रकाशित नहीं कर रहे हैं। इस मामले में पक्ष जानने के लिए प्राचार्य पुरुषोत्तम पटेल के वाट्सएप नंबर पर मैसेज किया गया, लेकिन मैसेज देखने के एक घंटे बाद भी उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया।

उप संचालक हीराधर बोले- ऐसा है तो कार्रवाई की जाएगी

शिक्षा संभाग बिलासपुर के उप संचालक आरएन हीराधर का कहना है कि अभी उन्हें शिकायत नहीं मिली है। यदि नतीजे निकलने से पहले प्रायोगिक परीक्षाओं के अंक वाट्सग्रुप में वायरल किए गए हैं तो गंभीर बात है। इस मामले की जांच कराकर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

बीके चौधरी ने कहा-ये गलत है, सचिव को लिखेंगे पत्र

माध्यमिक शिक्षा मंडल के क्षेत्रीय कार्यालय के संभागीय अधिकारी बीके चौधरी का कहना है कि परीक्षा परिणाम निकलने से पहले प्रायोगिक परीक्षा के अंकों को सार्वजनिक करना गलत है। इस मामले की लिखित शिकायत मिलते ही हम माध्यमिक शिक्षा मंडल रायपुर के सचिव को पत्र लिखेंगे। वहां से जो निर्देश मिलेगा, उसका पालन किया जाएगा।

Related Articles

Back to top button
Close
Close