Thu. Nov 14th, 2019

छत्तीसगढ़: गौठानों में पशुओं के लिए चारे की हो रही व्यवस्था: धान का पैरा एकत्रित करने के लिए स्ट्रा बेलर मशीन का किया जा रहा उपयोग…

रायपुर। फसल कटाई के बाद खेत में बचे हुए पैरा को स्ट्रा बेलर की सहायता से एकत्रित कर समीपस्थ गौठानों में पहुंचाने का कार्य कृषि एवं जल संसाधन मंत्री रविन्द्र चौबे की पहल पर किया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि बेलर मशीन की उपयोगिता को दृष्टिगत रखते हुए राज्योत्सव मेला में कृषि अभियांत्रिकी के स्टॉल में बेलर मशीन का प्रदर्शन किया गया था। प्रदर्शनी के अवलोकन के समय मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के सभी विकासखण्ड में बेलर मशीन उपलब्ध कराने हेतु आवश्यक कार्यवाही के निर्देश दिए थे।

राज्य शासन की महत्वाकांक्षी योजना ‘‘सुराजी गांव‘‘ नरवा, गरूवा, घुरवा, बाड़ी के अंतर्गत चयनित ग्रामों के स्थापित गौठानों में पशुओं के चारे की व्यवस्था की जा रही है। कृषि मंत्री रविन्द्र चौबे की पहल पर प्रमुख सचिव एवं कृषि उत्पादन आयुक्त डॉ. मनिंदर कौर द्विवेदी के मार्गदर्शन में बेमेतरा जिले के साजा विकासखण्ड के ग्राम-तेंदूभांठा और परसबोड़ में हार्वेस्टर से फसल कटाई के बाद खेत में बचे हुए पैरा को स्ट्रा बेलर की सहायता से एकत्रित कर समीपस्थ गौठानों में पहुंचाने का कार्य कृषि विभाग द्वारा किया जा रहा है।

बेलर मशीन का उपयोग रायपुर जिले में विकासखण्ड अभनपुर के ग्राम थनौद में भी किया गया। बेलर मशीन के उपयोग से राज्य के किसानों को फसल अवशेष प्रबंधन में होने वाली कठिनाईयां कम होगी, साथ ही गौठान में रहने वाले मवेशियों के लिए चारा की व्यवस्था भी हो सकेगी। बेलर मशीन के प्रदर्शन के समय गांव के किसान जनप्रतिनिधि एवं कृषि विभाग के अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित थे।

You may have missed

error: Content is protected !!