छत्तीसगढ़रायपुर

छत्तीसगढ़: शासकीय योजनाओं के तहत बीमारियों के इलाज के लिए क्लेम बढ़ाने की जरूरत – स्वास्थ्य मंत्री टी.एस. सिंहदेव…

रायपुर/रायगढ़/ स्वास्थ्य मंत्री टी.एस.सिंहदेव ने रायगढ़ कलेक्ट्रेट के सृजन सभाकक्ष में स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक ली। इस दौरान उच्च शिक्षामंत्री उमेश पटेल, विधायक रायगढ़ प्रकाश नायक, विधायक धरमजयगढ़ लालजीत सिंह राठिया, विधायक सारंगढ़ उत्तरी गनपत जांगड़े, सचिव स्वास्थ्य विभाग निहारिका बारिक सिंह, कलेक्टर यशवंत कुमार व संचालक स्वास्थ्य नीरज बनसोड़ भी उपस्थित थे।

स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने कहा कि बीमारियों के इलाज के लिए शासकीय योजनाओं के तहत क्लेम बढ़ाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि डॉक्टर जनसामान्य को अपनी ज्यादा से ज्यादा सेवाएं दें और शासकीय योजनाओं के तहत उन्हें हरसंभव लाभान्वित करें। जनसामान्य को इसके लिए विशेष रूप से प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि नागरिक राशन कार्ड का उपयोग करते हुए डॉ.खूबचंद बघेल स्वास्थ्य सहायता योजना एवं मुख्यमंत्री विशेष स्वास्थ्य सहायता योजना से गंभीर एवं जटिल बीमारियों का भी इलाज करवा सकते है। उन्होंने सीएमएचओ से हॉस्पिटल धरमजयगढ़, सिविल हॉस्पिटल खरसिया, सीएचसी घरघोड़ा, बरमकेला, लैलूंगा, पुसौर, सारंगढ़, तमनार, लोईंग, चपले, मेडिकल कालेज एवं जिला चिकित्सालय, पीएचसी छाल, सरिया एवं टेण्डा नवापारा में शासन की योजनाओं के तहत क्लेम के राशि की जानकारी ली। जेनरिक दवाईयों के उपलब्धता के संबंध में भी जानकारी ली।

सचिव स्वास्थ्य विभाग निहारिका बारिक सिंह ने कहा कि स्थानीय स्तर पर दवाईयों की खरीदी नियमानुसार करें, नहीं करने पर वित्तीय अनियमितता मानी जाएगी। उन्होंने कापू एवं खरसिया के बीएमओ से जानकारी ली कि स्थानीय स्तर पर दवाईयों की जो खरीदी की गई उनकी एन्ट्री पोर्टल में क्यों नहीं की गई। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.केशरी ने जिले में उपलब्ध स्वास्थ्य सुविधाओं एवं सेवाओं की जानकारी दी। इसके साथ ही उन्होंने स्वीकृत कार्य एवं रिक्त पदों के साथ ही स्वास्थ्य अधोसंरचना की भी जानकारी दी।

मेडिकल कालेज में जिन विभागों के संचालन की तैयारी है उन्हें शीघ्र शिफ्ट करायें- सिंहदेव

स्वास्थ्य मंत्री टी.एस.सिंहदेव ने मेडिकल कालेज सभाकक्ष में स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा बैठक ली। स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने कहा कि मेडिकल कालेज के नवनिर्मित भवन में जिन विभागों का संचालन हो सकता है, उन्हें जिला अस्पताल से शिफ्ट कर ओपीडी नवीन भवन में प्रारंभ करायें। मेडिकल कालेज की शीघ्र पूर्णता के लिए स्वास्थ्य विभाग व पीडब्ल्यू विभाग मेडिकल काऊंसिल ऑफ इंडिया के मापदण्डों के आधार पर आपसी समन्वय बनाकर कार्य करें। उन्होंने कहा जिन स्थानों में मेेडिकल कॉलेज हैं वहां के जिला अस्पताल को सेटेलाइट अस्पताल बनाया जाएगा जो मेडिकल कालेज से संबद्ध होंगे तथा सारी चिकित्सकीय सुविधाएं भी संबंधित मेडिकल कालेज द्वारा प्रदान की जाएगी। उन्होंने कालेज व अस्पताल संचालन के लिए विशेषज्ञ चिकित्सक तथा तकनीशियन की भर्ती करने के निर्देश दिए। विभाग ने चिकित्सकों के वेतन तथा अनुबंध राशि को बढ़ाया है। संबंधित विज्ञापन अन्य प्रदेशों में भी प्रकाशित करवाये जिससे योग्य चिकित्सक शीघ्र मिल सके। बजट से आबंटित राशि को स्वशासी राशि से पहले खर्च करें। उन्होंने सीजीएमएससी से दवा खरीदी की लंबित राशि का शीघ्र भुगतान करने के निर्देश दिए।

सचिव स्वास्थ्य विभाग निहारिका बारिक सिंह ने कहा कि किसी उपकरण की खरीदी के लिए इंडेन्ट जारी कर रहे है तो संचालक स्वास्थ्य तथा कलेक्टर को भी अवगत करायें। भवन निर्माण की समीक्षा करते हुए उन्होंने कहा कि सीवरेज ट्रीटमेन्ट प्लांट, बायोमेडिकल वेस्ट यूनिट आदि का निर्माण गाइड लाईन अनुसार करें। पीडब्ल्यूडी विभाग मेन्टेनेन्स के कार्य का समय से पूर्ण करें।

तत्पश्चात स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने मेडिकल कालेज के छात्र-छात्राओं से बातचीत की तथा उनकी मांगों के अनुसार कॉलेज के लाईब्रेरी को चौबीस घंटे संचालित करने के निर्देश डीन मेडिकल कालेज को दिए। साथ ही छात्रों को आश्वस्त किया कि शीघ्र ही मेडिकल कालेज के नवनिर्मित भवन में अस्पताल संचालित होने लगेगा।

Related Articles

Back to top button
Close
Close