छत्तीसगढ़: IAS शिखा राजपूत के खिलाफ जांच के आदेश…बीमा भुगतान मामले में सेक्रेटरी भुवनेश यादव करेंगे जांच…10 दिन में सौपेंगे रिपोर्ट…

रायपुर। तत्कालीन हेल्थ डायरेक्टर शिखा राजपूत तिवारी के खिलाफ राज्य शासन ने जांच बिठा दी है. यह जांच आयुष्मान भारत, मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा और संजीवन सहायता कोष योजना में हुई गड़बड़ियों की शिकायत के बाद बिठाई गई है. जांच का जिम्मा स्पेशल सेक्रेटरी हेल्थ भुवनेश यादव को सौंपा गया है. जांच प्रतिवेदन दस दिनों के भीतर प्रस्तुत करने के निर्देश दिए गए हैं. शिखा राजपूत तिवारी हाल ही में बेमेतरा कलेक्टर बनाई गई है।

स्वास्थ्य बीमा, संजीवनी सहायता कोष व आयुष्मान योजना में गड़बड़ी की शिकायत के बाद स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारीक ने इस प्रकरण को गंभीरता से लिया था। शिकायत में कमीशन के साथ-साथ बीमा भुगतान में पक्षपात और जान बूझकर अड़ंगा लगाने की जैसे आरोप थे, जिसके बाद स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक ने इस पूरे प्रकरण में जांच के आदेश देते हुए 10 दिन के भीतर स्पेशल सिकरेट्री से जांच रिपोर्ट तलब की है।

आयुष्मान योजना के साथ-साथ स्वास्थ्य बीमा योजना व संजीवनी से जुड़े भुगतान के लिए कमीशन की मांग, संजीवनी सहायता कोष के पैसे रिलीज में पक्षपात व देरी किये जाने और योजना से अलग किये गये अस्पतालों को दोबारा से योजना में शामिल करने के मुद्दे पर जांच की जायेगी। शिखा राजपूत इससे पहले स्वास्थ्य बीमा योजना के सीईओ विजय कटारे की नियुक्ति मामले में विवाद में आ चुकी थी, जिसके बाद उनसे जवाब मांगा गया था।

You may have missed

error: Content is protected !!