छत्तीसगढ़

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने किया छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री की कुर्सी के ढाई-ढाई साल के कार्यकाल फॉर्मूले का खंडन…

रायपुर। पंजाब कॉंग्रेस में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और पंजाब कॉंग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू के बीच खींचतान अभी थमा भी नहीं है कि कॉंग्रेस शासित एक और राज्य छत्तीसगढ़ में मुख्यमंत्री के पद को लेकर दो मंत्रियों के बीच राजनीतिक लड़ाई छिड़ गई है। हालांकि काँग्रेस आलाकामान इस लड़ाई को समाप्त कर राज्य में राजनीतिक स्थिरता लाने के लिए तमाम प्रयास कर रहा है। ज्ञात हो कि राज्य में कांग्रेस के पास 90 में से 70 सीटे हैं, इसलिए राजनीतिक अस्थिरता वाली कोई बात नहीं है।

इस राजनीतिक प्रतिद्वंद्यता की शुरुआत कल बुधवार को हुई, जब छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर दावा थोक दिया। इसके बाद छत्तीसगढ़ के निवर्तमान मुख्यमंत्री भूपेश बघेल नेटीएस सिंह देव के इस मांग पर रिएक्ट किया। इस प्रकरण को लेकर मीडिया ने छत्तीसगढ़ में ढाई-ढाई साल के मुख्यमंत्री पद के कार्यकाल की बात होने लगी। इस बारे में आज छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने सफाई दी है।

यह खबर भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: ढाई-ढाई साल के मुद्दे से सरकार को अस्थिर करने की कोशिश : मुख्यमंत्री भूपेश​​​​​​​ बघेल…

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने कहा, “पार्टी ने 2.5 साल के फॉर्मूले पर कभी बात नहीं की। यह सिर्फ एक मीडिया कयास था कि छत्तीसगढ़ में सीएम चुने जाने पर क्या ऐसा कोई फॉर्मूला बनता है। हाईकमान पार्टी में लोगों की भूमिका तय करता है। हम उन जिम्मेदारियों को निभाते हैं।”

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव ने आगे कहा, “अगर कोई व्यक्ति किसी टीम में खेलता है तो क्या वह कप्तान बनने के बारे में नहीं सोचता? क्या आप एक नहीं बनना चाहेंगे? हर कोई उसके बारे में सोचता है लेकिन सवाल उसके विचारों का नहीं, उसकी क्षमताओं का है।

टीएस सिंह देव ने अंत में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर तंज कसते हुए कहा, “भूपेश बघेल 50 साल या 10 साल या 2 साल तक सीएम रह सकते हैं। यह तय नहीं है। भाई-बहनों में भी प्रतिद्वंद्विता होती है। स्वस्थ प्रतियोगिताएं होती हैं। आलाकमान ने जो जिम्मेदारी दी है, मैं उसे निभाऊंगा।”

Related Articles

Back to top button
Close
Close
Open chat