मनोरंजन

सुशांत केस में बड़ा खुलासा: जानिए कौन निकालता था अकाउंट से पैसे, रिया के अलावा और किसे पता था एटीएम का पिन…

सुशांत सिंह प्रकरण में हर रोज नये खुलासे हो रहे हैं। जिस सैमुअल मिरांडा पर सुशांत के परिजनों ने उसकी मौत के बाद केस दर्ज करवाया था, वह रिया का खासमखास निकला। रिया के इशारे पर कई बार सैमुअल पैसे भी निकाल चुका है।

बीते वर्ष 2019 के 14 नवंबर को भी सैमुअल ने सुशांत के खाते से दो लाख रुपये निकाले थे। 20-20 हजार कर ये रुपये एटीएम से निकाले गये थे। सूत्रों की मानें तो इन सभी बातों की जानकारी रिया को थी। सुशांत से छिपाकर सैमुअल रुपये निकाला करता था। उसे भी सुशांत सिंह के काड्स के पिन नंबरों के बारे में जानकारी दी। बहरहाल छानबीन पूरी होने के बाद इस मामले में और भी खुलासे हो सकते हैं।

सुशांत के खाते के बारे में और किन-किन लोगों को जानकारी थी इसका पता भी जांच टीम को चलेगा। यह भी कयास लगाये जा रहे हैं कि सुशांत के खाते से जान-बूझकर छोटी रकम निकाली जाती थी ताकि उन्हें किसी तरह का शक न हो। गौरतलब है कि दिवंगत अभिनेता के परिजन एफआईआर में भी यह आरोप लगा चुके हैं कि सुशांत सिंह के खाते से एक साल में धीरे-धीरे कर मोटी रकम ट्रांसफर की गयी थी।

श्रुति मोदी के पास भी दफन हैं कई राज

सुशांत सिंह की पीए श्रुति मोदी भी उनकी मौत से जुड़े कई राज को जानती हैं। जांच एजेंसियों ने श्रुति के लिये भी सवालों की फेहरिस्त तैयार कर ली है। सूत्रों की मानें तो श्रुति भी रिया चक्रवर्ती के बेहद करीब थीं। सिद्धार्थ पिठानी को भी वह बेहद अच्छे से जानती है। यह माना जा रहा है कि श्रुति सुशांत की मौत से जुड़े कई राज खोल सकती हैं। इस मामले की जांच कर रही टीम उनसे लंबी पूछताछ भी कर सकती है।

सुशांत की मौत हुये दो महीने बीत गए

सुशांत की मौत हुये दो महीने बीत चुके हैं। बीते 14 जून को मुंबई स्स्थित उनके फ्लैट में सुशांत का शव मिला था। तब से अब तक इस मामले में कई दिलचस्प मोड़ आये। शुरू में जहां इस घटना को आत्महत्या करार दिया गया था वहीं बाद में पूरे प्रकरण में नया मोड़ आ गया। सुशांत के परिजनों ने पटना में केस दर्ज करवा दिया। रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती सहित कइयों पर नामजद एफआईआर की गयी। एफआईआर में सुशांत के पिता ने रिया पर गंभीर आरोप लगाये। पटना पुलिस की टीम मुंबई गयी। अंत में मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गयी।

Related Articles

Back to top button
Close
Close