देशसेना

सशस्‍त्र सेना झंडा दिवस: सैनिकों के सम्मान का दिन, आखिर कैसे और क्यों हुई इसकी शुरुआत ?…जाने इस तरह से करते हैं सेलिब्रेट…


भारतीय सेनाओं के लिए आज का यानी कि 7 दिसंबर का दिन कई मायनों में काफी ख़ास है. बता दें कि हर साल आज ही के दिन भारत Armed Force Flag Day अथवा सशस्‍त्र सेना झंडा दिवस मनाता है. बता दें कि स्वतंत्र भारत के बाद से ही इसकी शुरुआत हो चुकी थी, पहली बार साल 1949 में सर्वप्रथम इसे मनाया गया था. इसके पीछे का उद्देश्य  सेनाओं को उनका सही सम्‍मान देना था.

इस तरह से करते हैं सेलिब्रेट..

आपको बता दें कि हर वर्ष इस दिन सभी सेनाओं के जवानों एयरमेन, और नाविकों को याद किया जाता है जिन्‍होंने देश की रक्षा में अपने प्राण त्‍याग दिए है. साथ ही इस दिन जवानों के लिए फंड की व्यवस्था भी की जाती है. सैनिकों के बेहतर भविष्य और कल्याण के लिए फंड इकट्ठा किया जाता है. 

जानिए क्यों हुई इसकी शुरुआत ?

आजादी के बाद सरकार के सामने सबसे बड़ी चुनौती सैनिकों के रख-रखाव के लिए जरूरी पैसे की कमी की थी. इसके लिए 28 अगस्‍त 1949 तत्कालीन रक्षा मंत्री के नेतृत्‍व में एक कमेटी बनाई गई थी, इस कमेटी की ओर से हर वर्ष सात दिसंबर को झंडा दिवस मनाने का सुझाव दिया गया. जहां बाद में झंडा दिवस के जरिए लोगों में छोटे-छोटे झंडे दिए जाते और उनके बदले डोनेशन उनसे लिया जाता था. इसके बाद धीरे-धीरे यह दिन काफी प्रसिद्ध हो गया. और हर वर्ष बड़े पैमाने पर इसका आयोजन किया जाता है.

Related Articles

Back to top button
Close
Close