देशलाइफस्टाइल

65 वर्षीय पोस्टमैन लोगों को इस तरह पहुंचाता था उनके खत, अब लोग कर रहे पद्मश्री देने की गुजारिश

इंटरनेट पर ऐसे कई कहानियां वायरल होती रहती है जो की अलग हटकर और दिल को छू जाने वाली होती है. हाल ही में एक ऐसा मामला सामने आया है जो की तमिलनाडु का है. दरअसल तमिलनाडु के 65 वर्षीय डी. सिवन की कहानी इंटरनेट पर तेजी से छा गई है. वह पेशे से पोस्टमैन थे, जो की पिछले सप्ताह ही रिटायर्ड हुए हैं. वहीं लोग सोशल मीडिया पर सरकार से डी. सिवन को पद्मश्री देने की गुजारिश कर रहे हैं. हालांकि महीने के 12,000 रूपए आमदनी वाले सिवन लोगों तक उनका पत्र पहुंचाने के लिए रोज करीब 15 किलोमीटर पहाड़ी व जंगल का सफर तय करते थे. हालांकि सफर के दौरान उनका सामना जंगली जानवरों से भी होता था. इन मुश्किल रास्तों और खतरनाक जानवर भी उनके जज्बे को हिला नहीं सके!

बता दें की आईएएस सुप्रिया साहू ने डी. सिवन की एक तस्वीर ट्वीटर पर ट्वीट की और लिखा, ‘पोस्टमैन डी. सिवन रोजाना 15 किलोमीटर सफर पैदल चलकर कुनूर के घने जंगलों में खतरनाक जानवरों जैसे की हाथी, भालू का सामना करते हुए लोगों तक उनके खत पुहंचाते थे. इसके साथ ही व फिसलन भरे रास्तों, झरनों और सुरंगों को भी पार किया करते थे. नौकरी के 30 वर्षों से वह इसी प्रकार से काम करते आ रहे थे. वहीं बीते सप्ताह वो रिटायर हो गए।’ इस ट्वीट को अब तक 62 हजार से ज्यादा लाइक्स और 12 हजार से अधिक री-ट्वीट आ चुके है .

इस पोस्ट पर एक यूजर ने लिखा है की, ‘मैंने वर्ष 2018 में इनका इंटरव्यू लिया था. यह भारत रत्न के हकदार हैं. कम से कम इन्हें पद्मश्री पुरस्कार से तो सम्मानित किया जाना चाहिए. इसके बाद बहुत से लोगों ने इस ट्वीट पर प्रतिक्रिया जाहिर की है और राष्ट्रपति को टैग करते हुए पोस्टमैन डी. सिवन को पद्मश्री दिए जाने की गुजारिश की है.

Related Articles

Back to top button
Close
Close