देश

देश: मौसम विभाग/ मानसून नए घटनाक्रम के चलते 4 दिन पहले केरल तट पर देगा दस्तक, जानें कब?…

भारत के मौसम विभाग ने गुरुवार को पूर्वानुमान में बदलाव करते हुए कहा कि मानसून इस बार तय वक्त यानी 1 जून को ही केरल तट पर दस्तक देगा। आईएमडी ने कहा है कि वर्तमान परिस्थितियां मानसून के आगमन को लेकर बेहद अनुकूल बन गई हैं। हालांकि, पहले 5 जून को मानसून के केरल पहुंचने की बात कही गई थी। नए घटनाक्रम के चलते अब यह 4 दिन पहले ही आ जाएगा।

दरअसल, मौसम विभाग ने गुरुवार को कहा कि चार महीने पड़ने वाली बारिश भारत के लिए बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि हमारे देश की अर्थव्यवस्था कृषि पर निर्भर है। आईएमडी ने एक बयान में कहा, ‘मानसून की शुरुआत के लिए मौसम की स्थिति 1 जून, 2020 से अनुकूल होने की संभावना है। पहली बारिश केरल में 1 जून को आ सकती है।’

देश: आम नागरिकों को भी 3 साल सेना में सेवा का मिल सकता है मौका , जानिए क्या है टूर ऑफ ड्यूटी ऑपइंडिया स्टाफ़…

आईएमडी ने इससे पहले उम्मीद जताई थी कि मानसून 5 जून को पहुंचेगा, लेकिन साइक्लोन के बाद से कुछ जगहों पर दबाव कम होने की वजह से यह जल्दी पहुंच रहा है। मौसम विभाग ने अप्रैल में कहा था कि इस बार मानसून औसत ही रहने वाला है। विभाग के मुताबिक, 96 से 100% बारिश को सामान्य मानसून माना जाता है। पिछले साल यह आठ दिन की देरी से 8 जून को केरल के समुद्र तट से टकराया था। भारत में जून से सितंबर के बीच दक्षिण-पश्चिम मानसून से बारिश होती है।

भारत जैसे कृषि प्रधान देश के लिए मानसून बेहद जरूरी है। अर्थव्यवस्था का बड़ा हिस्सा कृषि आधारित है। देश में आधे से ज्यादा खेती सिंचाई के लिए बारिश पर ही निर्भर होती है। चावल, मक्का, गन्ना, कपास और सोयाबीन जैसी फसलों के लिए बारिश बेहद जरूरी होती है। एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में शुमार भारतीय अर्थव्यवस्था इन दिनों मुश्किलों का सामना कर रही है।

तकनीक: बिना खून निकाले हेमोग्लोबिन का स्तर बता देगा ये नया स्मार्टफोन टूल, जानें कैसे…

Related Articles

Back to top button
Close
Close