अन्य

जानिए किन वजहों से पीएम मोदी ने छीन ली इन 6 मंत्रियों की कुर्सी

2019 के लोकसभा चुनाव से पहले संभवत: मोदी सरकार ने आज आखिरी बार अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया है जिसमें 9 नए मंत्रियों को शामिल किया गया है। खासबात ये है कि जिन 6 अनुभवी और मजे हुए राजनेताओं की जगह नए नेताओं और पूर्व अधिकारियों को कैबिनेट में जगह दी गई है उनमें अश्विनी चौबे को छोड़कर किसी के पास भी बतौर मंत्री काम करने का अनुभव नहीं है।
साढ़े तीन साल के कार्यकाल के दौरान पीएम मोदी का ये तीसरा कैबिनेट विस्तार है। पीएम का कैबिनेट विस्तार नए मंत्रियों को शामिल करने से ज्यादा कई पुराने मंत्रियों की छुट्टी कर देने को लेकर चर्चा में है।
आखिर इन साढ़े तीन सालों में ऐसा क्या हुआ कि कई दिग्गजों की मोदी कैबिनेट से छुट्टी हो गई। केंद्रीय मंत्री राजीव प्रताप रूडी, कलराज मिश्रा, संजीव बालियान, फग्गन सिंह कुलस्ते, बंडारू दत्तात्रेय और महेंद्रनाथ पांडे को अपने पद से हाथ धोना पड़ा।
इन 6 मंत्रियों को अपने पद से इस्तीफा देने का सीधा आदेश पार्टी प्रमुख अमित शाह की तरफ से दिया गया था। माना जा रहा है कि इन मंत्रियों के काम-काज से पीएम मोदी खुश नहीं थे। चूंकि 2019 में लोकसभा चुनाव होने हैं उसी को देखते हुए पीएम मोदी अब ऐसी टीम बनाना चाहते हैं जो बचे हुए डेढ़ सालों में जनता की नजर अपने काम की बदौलत पीएम मोदी की छवि को चमका सकें। यहां हम आपको बता रहे हैं कि आखिर इन 6 मंत्रियों की कुर्सी क्यों गईं।

राजीव प्रताप रूडी

कारण – कौशल विकास में अपना कौशल नहीं दिखा पाए रूडी रूडी बिहार के सारण से बीजेपी के सांसद हैं। बताया जा रहा है कि कौशल विकास मंत्रालय में राज्यमंत्री रहे रूडी के काम से पीएम मोदी खुश नहीं थे।पीएम मोदी स्वरोजगार और आंत्रप्रेन्योर के क्षेत्र में कुछ बड़ी उपलब्धि हासिल करना चाहते थे जिसको वो 2019 में जनता के सामने रख सकें। रूडी पीएम के इस उम्मीद पर खरे नहीं उतरे इसलिए उन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।

बंडारू दत्तात्रेय

कारण – काम से खुश नहीं था आरएसएस
दत्तात्रेय मोदी सरकार में श्रम और रोजगार मंत्री थे। बताया जा रहा है कि बंडारू दत्तात्रेय के काम-काज के तरीके से आरएसएस खुश नहीं था। दत्तात्रेय के कुछ फैसले से आरएसएस से जुड़े श्रम संगठन भी बेहद नाराज थे।
श्रम सुधारों में दत्तात्रेय का लचर प्रदर्शन भी पीएम मोदी को रास नहीं आ रहा था। हैदराबाद यूनिवर्सिटी में रोहित वेमुला आत्महत्या मामले में भी दत्तात्रेय के बयान से पीएम नाराज थे। यही वजह है कि बंडारू दत्तात्रेय से इस्तीफा लेने का दबाव केंद्र सरकार पर था।

फग्गन सिंह कुलस्ते

कारण – मध्य प्रदेश चुनाव की संभाल सकते हैं कमान
कुलस्ते मध्यप्रदेश के मंडला से बीजेपी के सांसद हैं और वो स्वास्थ्य-परिवार कल्याण मंत्रालय में राज्य मंत्री थे। एमपी में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। चूंकि वो मध्य प्रदेश के रहने वाले हैं इसलिए उन्हें प्रदेश अध्यक्ष बनाकर चुनाव की कमान सौंपी जा सकती है।

संजीव बालियान

कारण – कार्यशैली पीएम मोदी को नहीं आई पसंद
यूपी के मुजफ्फरनगर से बीजेपी सांसद बालियान केंद्र सरकार के जल संसाधन, नदी विकास और गंगा कायाकल्प मंत्रालय में राज्यमंत्री थे। खबरों के मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बालियान के कार्यशैली से खुश नहीं थे।पीएम मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट नमामि गंगे में भी बालियान कुछ खास प्रदर्शन नहीं कर सके जिससे मोदी नाराज थे। शायद इसी वजह से उन्हें अपने पद से हाथ धोना पड़ा।

कलराज मिश्रा

कारण – प्रदर्शन में फिसड्डी, उम्र 75 पार
यूपी के देवरिया से बीजेपी सासंद कलराज मिश्रा मोदी कैबिनेट में सूक्ष्म, लघु उद्योग मंत्री थे। बताया जा रहा है कि कलराज मिश्रा के कमजोर प्रदर्शन से नरेंद्र मोदी नाराज थे।
नोटबंदी के बाद सूक्ष्म और लघु उद्योग मंत्रालय से जुड़े मामलों को नहीं सुलझा पाने की वजह से भी पीएम मोदी ने इन्हें मंत्री पद से हटाने का फैसला किया। मिश्रा को मंत्री पद से हटाए जाने का दूसरा बड़ा कारण इनकी उम्र भी है। कलराज मिश्रा 75 साल की उम्र सीमा को पार कर चुके हैं।

महेंद्र नाथ पांडे

कारण – एक शख्स एक पद
महेंद्र नाथ पांडे यूपी के चंदौली से बीजेपी के सांसद हैं। पांडे मानव संसाधन विकास मंत्रालय में राज्यमंत्री थे। चूंकि उन्हें तत्काल प्रभाव से उत्तर प्रदेश बीजेपी का अध्यक्ष बनाया गया है इसलिए इन्हें अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।पांडे के इस्तीफे को लेकर कहा जा रहा है कि बीडेपी ने उन्हें एक शख्स एक पद नीति के तहत मंत्री पद से हटाया है।

मोदी के नए कैबिनेट में 9 नए मंत्रियों को शामिल किया है उसमें अश्विनी चौबे, शिव प्रताप शुक्ला, वीरेंद्र कुमार, अनंत कुमार हेगड़े, राज कुमार सिंह, हरदीप पुरी, गजेंद्र शेखावत, सत्यपाल सिंह, अल्फोंसन कन्ननधनम शामिल हैं। नए मंत्रियों को रविवार को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close
Open chat