अन्य

बस्ते के बोझ तले सिसकता बचपन(एक माँ की ज़ुबानी)

स्कूल के लिए सुबह तैयार होते हुए, मेरी बेटी ने खुद ही कुछ किताबें अपने बैग से निकालीं और बाहर रख दीं. इसके बाद उसने मुझसे एक पॉलिथिन मांगा. ये देखकर मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उससे पूछ ही लिया- आखिर किस काम के लिए चाहिए पॉलिथिन? बेटी ने जवाब दिया कि उसकी एक सहेली को अक्सर पीठ में दर्द की शिकायत रहती थी,जब डॉक्टर को दिखाया तो पता चला स्कूल के भारी बस्ते की वजह से उसको दर्द होता है. साथ ही मेरी बेटी ने ये भी बताया कि अब उसकी दोस्त की मां उसका स्कूल बैग लेकर उसे छोड़ने आती हैं.सहेली की बात बेटी को इतनी जल्दी समझ आ गई कि उसने खुद ही अपने बस्ते को हल्का करने का उपाय ढूंढ लिया.आधी किताबें बैग में और आधी पॉलिथिन में. बेटी की इस समझदारी पर मैं खुश तो हुई, लेकिन अगले ही पल एक डर भी लगा कि कहीं ऐसा ही दर्द उसे भी तो नहीं सता रहा? क्या वो मुझसे कुछ छुपा तो नहीं रही? क्या होगा अगर गलती से वो पॉलिथिन स्कूल में ही छूट जाए? लेकिन इस डर के साथ मैं भी उसका हल्का बस्ता पीठ पर टांगे बस स्टॉप की तरफ चल दी.
भारी बस्ता, सब मां-बाप की परेशानी बस स्टॉप पर पहुंचकर ध्यान से देखा तो लगा कि हर माता-पिता की यही कहानी है. बच्चों के स्कूल के बस्ते मां-बाप की ही पीठ पर थे. पहले भी ऐसा होता होगा, लेकिन आज मेरी नजर गई. शायद बेटी की बातों ने मेरा ध्यान बस्ते की ओर खींचा था. कुछ अभिभावकों से इस मुद्दे पर बात छेड़ दी, तो सबने ऐसी प्रतिक्रिया दी मानों मैंने उनके मुंह की बात छीन ली. दिल में जितना गुबार भरा था, सब निकलकर बाहर आ गया.एक पिता ने तो यहां तक कहा कि हम बड़े भी बच्चों का बस्ता टांगकर जब स्कूल की बस का इंतजार करते हैं तो खुद को थका हुआ महसूस करते हैं और अगर स्कूल बस का इंतजार लंबा हो जाए तो बस्ते को कहीं ठिकाने की जगह ढूंढने लगते हैं. एक पिता ने तो कहा,पता नहीं क्यों ऐसा लगता है कि स्कूल प्रबंधन और शिक्षकों को बच्चों के बस्ते का भारी बोझ नहीं दिखता.ये बातें सुनते हुए एक मां से रहा नहीं गया और वो तुंरत बोली कि मैं तो पहले बच्चे को ही डांटती थी. स्कूल में टाइमटेबल मिलाकर नहीं जाते, इसलिए बस्ता भारी होता है. इसलिए मैंने बच्चे पर विश्वास न करते हुए उसका टाइमटेबल खुद मिलाना शुरू कर दिया. फिर भी नतीजा वही रहा – स्कूल का भारी बैग. एक अभिभावक ने तो कहा, बैग के वजन को तो छोड़िए जनाब, स्कूल में आए दिन मिलने वाले प्रोजेक्ट, डांस और कॉम्पिटीशन के समान भी तो बहुत होते हैं.उपर से दो-दो टिफिन,पानी की बोतल, खेलने के लिए कभी बैडमिनटन,कभी फुटबॉल की किट,तो कभी क्रिकेट का सामान… बच्चा आखिर क्या-क्या संभाले?स्कूल की गलती है भारी बस्ता
बस स्टॉप पर हुई बातचीत के दौरान लोगों के दिल का गुबार तो खूब निकला लेकिन इस समस्या का कोई हल वहां से नहीं निकला.बेटी के बस्ते के बोझ ने एक  मां को झकझोर दिया था.लिहाजा मैं बस्ते के वजन को लेकर छानबीन में जुट गई और आखिर में पाया कि पूरे मामले में लापरवाही स्कूलों की ही है. सरकार ने तो समय-समय पर इस बारे में बार गाइडलाइन जारी की हैं।दिल नहीं माना तो बेटी के बस्ते का वजन कर ही लिया. बिना टिफिन और बिना पानी की बोतल के बस्ते का वजन पांच किलो से ज्यादा था. पांच किलो का वजन उठाए कोई बच्चा तीसरी मंजिल तक अपनी क्लास में जाएगा तो भला उसकी पीठ में दर्द क्यों नहीं होगा?साफ है कि अब बारी है प्राइवेट स्कूलों की, जो इन प्रयासों को आगे बढ़ कर अपने यहां अमल में लाएं, ताकि बच्चों का भविष्य बस्ते के बोझ से आजाद हो सके. ये बहुत मुश्किल नहीं है,जरूरत बस बस्ते के भारी बोझ को बच्चों के नजरिए से देखने और समझने की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close
Open chat