अन्य

मुख्यमंत्री के आगमन के पहले नगर में विकास के नामपर जमकर हो रही है खानापूर्ति

मुख्यमंत्री के आगमन के पहले नगर में विकास के नामपर जमकर हो रही है खानापूर्ति

                    मुंगेली..संजय जायसवाल

मुंगेली- 5 अक्टुबर को मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह के नगर आगमन के चलते विकास को पर लग गए है जो कार्य यहां सालों से नहीं हो पाये थे वें चंद दिनों मे किये जा रहे है जा रहे है जिस द्वित गति से ये कार्य हो रहे है उसका गुणवत्ता का क्या पैमाना होगा आज नगर के लोगो के बीच मे ये बड़ा सवाल है करोड़ो रुपयो की लागत से बनाये जा रहे मुंगेली से गीधा तक की सडक जिसमे महिनो से काम चल रहा है और ठेकेदार की मनमाने रवैये के चलते शहरवासी धुल और प़दुषण से त्रस्त है आमलोगों को हो रहे समस्या को लेकर विपक्ष के द्वारा कलेक्टर को ज्ञापन देकर जल्द कार्य पूर्ण कराये जाने का निवेदन किया गया था लेकिन जिला प्रशासन के द्वारा इन समस्याओं को गंभीरता से नही लिया गया यही वजह है कि आमलोगों नारकीय जीवन जीने को मजबूर है वही विपक्ष में बैठे लोग सिर्फ ज्ञापन देकर ही अपनी जिम्मेदारी की औपचारिता निभा रहे ऐसे में लोगो का कहना है कि जो जनप्रीतिनिधि अपने आपको आम जनता की हितैषी बताती है उनके ही द्वारा जब इन समस्यओं को लेकर अभी तक कोई रुख तय नही कर पाए तो इन समस्याओं का निराकरण आखिर होगा कैसे वही सत्तापक्ष के लोग जिला प्रशासन की जी हुजूरी में लगे है हालांकि मुख्यमंत्री के आगमन होने को है।

तब नगरपालिका व जिलाप्रशासन ने इन कार्यो को लेकर गंभीरता दिखाई दे रही है इन अधूरे निर्माणकार्य के कारण दुर्घटनाये भी हुई और जान भी गवानी पड़ी चाहे वो नगरपालिका द्वारा डिवाइडर में लगे फेसिंग तार में प्रवाहित बिजली से एक महिला की मौत का मामला हो चाहे मुंगेली से गिधा तक धीमीगति से रोड निर्माण के चलते दुर्घटना में मुंगेली के एक युवक की जान चले जाने का मामला हो आज जिस गति अधूरे निर्माण कार्य को पूरा किया जा रहा है।इससे सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि कितनी गुणवत्ता इस निर्माणकार्य की होगी। मुख्यमंत्री द्वारा मुंगेली को करोड़ो रूपये की सौगात मिली है पर वो जमीन पे आज तक अवतरित नही हुई है ।

विकास के नाम पर सिर्फ शहर वासियों के साथ छलावा हो रहा है मुंगेली जिले के विकास और आम जनता को मिलने वाली मूलभूत सुविधाओं को लेकर मुख्यमंत्री के द्वारा करोड़ो रुपयो के कार्य स्वीकृत किया जाता रहा है पर आज तक जमी पर वो कार्य दिखते नही है चाहे वो गॉर्डन ,स्वीमिंगपूल चौक चौराहों का सौंदर्य कारण हो गार्डन का निर्माण अधूरा है इसलिए कि इसकी जो राशी थी वो भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई । स्टेडियम मे हुए कार्य की गुणवत्ता भी एक सवालिया निशान लगाता है कलेक्टर द्वारा गठित जाँच टीम ने गार्डन में भ्रटाचार होना पाया है उसके बाद भी अभी तक कोई कार्यवाही देखने को नही मिली है अब देखना होगा के आने वाले दिनों में जो विकासकार्य किये जायेंगे उन कार्यो को लेकर आम जनप्रीतिनिधि और अधिकारी कितनी गंभीरता से करवाते है क्योंकि आम जनता भले ही अभी  चुप है लेकिन आने वाले समय मे यही जनता निर्णायक की भूमिका में नजर आएगी जो किसी को भी अर्श से फर्श पर या फर्श से अर्श पर पहुंचा सकती है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close
Open chat