अन्य

WhatsApp यूजर सावधान! इस तरह से हैकर दूर बैठे डिलीट कर रहे हैं एकाउंट…पढें ये रिपोर्ट…

आज के समय में WhatsApp का प्रयोग तकरीबन हर स्मार्टफोन यूजर की लाइफ का अहम हिस्सा बन चुका है। इस लोकप्रिय इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप पर हैकर्स की नजरें लंबे समय से गड़ी हुई हैं। अब एक नया मामला सामने आया है, जिसके अनुसार हैकर्स दूर बैठ कर आपके WhatsApp एकाउंट को डिलीट कर रहे हैं। इसके लिए यूजर्स के मोबाइल नंबर का इस्तेमाल किया जा रहा है।

दरअसल, WhatsApp में ये खामी लंबे समय से थी और अब इसका फायदा हैकर्स द्वारा उठाया जा रहा है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार हैकर दुनिया के किसी भी कोने में बैठकर आपके अकाउंट को हैक कर उसे हमेशा के लिए डिलीट (निष्क्रिय) कर सकता है। इतना ही नहीं, यदि आप दोबारा अकाउंट को रिकवर करना चाहें तो ऐसा करने से आपको रोक भी सकता है। भले ही आपके अकाउंट में टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन (2FA) इनेबल किया गया है।

सिक्योरिटी रिसर्चर लुइस मर्केज कार्पेन्थो और अर्नेस्टो कैनेल्स परेना ने WhatsApp की इस खामी को खोजा है। पहली बार फोर्ब्स में छपी रिपोर्ट के मुताबिक शोधकर्ताओं ने पाया कि इस इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप के दो मूलभूत कमजोरियों के कारण इसे हैकर्स द्वारा आसानी से हैक किया जा रहा है। हैकर इन खामियों का फायदा उठा कर किसी का भी अकाउंट डिलीट कर सकते हैं।

रिपोर्ट्स के अनुसार, पहली कमजोरी ये है कि हैकर अपने फोन के व्हाट्सएप पर आपके मोबाइल नंबर से लॉग इन करने की कोशिश करेगा। हालांकि सिक्योरिटी के चलते ऐप उसे ऐसा करने की अनुमति नहीं देगा, जब तक कि हैकर को आपके मोबाइल पर पहुंचे 6 अंकों का रजिस्ट्रेशन कोड न मिल जाए। लेकिन हैकर बार बार गलत कोड डालेगा जिसके बाद व्हाट्सएप अगले 12 घंटे के लिए हैकर के फोन पर व्हाट्सएप को ब्लॉक कर देगा।

हालाँकि, जब हैकर आपके फ़ोन नंबर के साथ साइन इन प्रक्रिया को दोहराने में सक्षम नहीं होगा तो वो ऐप से आपके फ़ोन नंबर को डिलीट (निष्क्रिय) करने के प्रक्रिया के लिए व्हाट्सएप से संपर्क करने की कोशिश करेगा। इसके लिए हैकर को महज एक नया ईमेल आईडी चाहिए जो ये बताए कि आपका मोबाइल फोन चोरी हो गया है। उस ईमेल के जवाब में, व्हाट्सएप इस बात की पुष्टि करेगा और हैकर तत्काल अपनी तरफ से इसका जवाब दे देगा।

इस प्रक्रिया के बाद आपका व्हाट्सएप एकाउंट डिएक्टिवेट कर दिया जाएगा। इसका सीधा अर्थ है कि अब आप अपने फोन से इस इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। इतना ही नहीं, आप अपने व्हाट्सएप अकाउंट से टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन 2FA का भी उपयोग करके डिएक्टिवेशन से नहीं बच पाएंगे क्योंकि हैकर द्वारा भेजे गए ईमेल के जरिए एकाउंट पहले से ही निष्क्रिय कर दिया गया होगा।

सामान्य तौर एकाउंट डिएक्टिवेट होने की दशा में WhatsApp यूजर अपने फ़ोन नंबर की पुष्टि करके अपने व्हाट्सएप खाते को सक्रिय कर सकते हैं। लेकिन ये तब संभव नहीं है यदि हैकर ने व्हाट्सएप खाते में साइन इन करने के कई असफल प्रयास करके सत्यापन प्रक्रिया को 12 घंटे के लिए ब्लॉक कर दिया हो। इससे ये साफ है कि यूजर अगले 12 घंटों के लिए रजिस्ट्रेशन कोड प्राप्त नहीं कर सकता है।

क्या कहता है व्हाट्सएप:

इस मामले में एक व्हाट्सएप प्रवक्ता ने मीडिया को बताया कि उपयोगकर्ता टृ-स्टेप वेरिफिकेशन के माध्यम से अपने ईमेल पते को अपने एकाउंट में दर्ज करके इस समस्या से बच सकते हैं। इसके लिए यूजर्स को एक ईमेल आईडी को अपने एकाउंट से लिंक करना होगा। ये टृ-स्टेप वेरिफिकेशन सिस्टम व्हाट्सएप के ग्राहक सेवा टीम को ऐसे मामलों से निपटने में मदद करेगी।

हालांकि, व्हाट्सएप ने अभी इस बात की कोई जानकारी साझा नहीं की है कि, वो इस मामले में यूजर्स के एकाउंट को हैकर्स से बचाने के लिए कोई ठोस कदम उठा रहा है या नहीं। अब चुकि ये मामला पब्लिक डोमेन में आ गया है और ज्यादातर लोगों को इसकी जानकारी हो गई है, ऐसे में ये कहना गलत नहीं होगा कि आपको भी अपना व्हाट्सएप एकाउंट सुरक्षित रखने की जरूरत है।

बता दें कि, WhatsApp दुनिया भर में सबसे ज्यादा प्रचलित इंस्टेंट मैसेजिंग ऐप में से एक है। इस समय दुनिया में तकरीबन 200 करोड़ लोग इस ऐप का इस्तेमाल करते हैं, वहीं अकेले भारत में इसके 40 करोड़ उपभोक्ता हैं।

Related Articles

Back to top button
Close
Close
Open chat