Fri. Jan 17th, 2020

मध्यप्रदेश विधानसभा चुनाव 2018 : रात 12 बजे के बाद भी नतीजा नहीं, अन्य के साथ मिलकर सरकार बना सकती है कांग्रेस ?…

आज आए 5 राज्यों के चुनावों में भाजपा का पूरी तरह से सूपड़ा साफ़ हो चुका है. कांग्रेस ने इसमें मिज़ोरम में सत्ता गंवाई है, जबकि उसने फिलहाल 2 राज्यों राज्यों में वापसी कर ली है. भाजपा ने छत्तीसगढ़ और राजस्थान में प्रचंड बहुमत हासिल किया है. राजस्थान में जहां सरकार बदलने का इतिहास जस का तस रहा, वहीं छत्तीसगढ़ कांग्रेस का 15 साल का वनवास खत्म हो गया है.

बता दें कि 230 विधानसभा सीटों वाले मध्यप्रदेश में भाजपा को जहां 81 सीटों पर जीत मिली है तो वहीं फिलहाल कांग्रेस ने 82 सीटें जीत ली. कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी, सिंधिया और कमलनाथ की मेहनत रंग लाती हुई दिख रही हैं, वहीं भाजपा इस बार कमाल दिखाने में बेदम साबित हो रही है. बता दें कि यह पहला मौका है जब केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद भाजपा को इतनी बुरी तरह से हार का मुंह देखना पड़ा है.फ़िलहाल मप्र में त्रिशंकु विधानसभा के आसार नजर आ रहे हैं. 

साल 2013 विधानसभा चुनाव की बात की जाए तो 230 सीट वाली मध्यप्रदेश विधानसभा में भाजपा ने प्रचंड बहुमत हासिल किया था, उसे 2013 के चुनाव में 165 सीटें मिली थी. जबकि कांग्रेस यह महज 58 सीटों पर सिमट कर रह गई थी. वहीं इस बार भाजपा को पटखनी देते हुए कांग्रेस वापसी की ओर बढ़ रही है. सीएम शिवराज मध्यप्रदेश के अगले सीएम के रूप में जरूर पिछड़ गए लेकिन उन्होंने बुधनी सीट से कांग्रेस के अरुण यादव को पछाड़कर जीत हासिल की. फ़िलहाल अब मध्यप्रदेश कांग्रेस के सामने एक बड़ी चुनौती है कि वह मध्यप्रदेश का अगला सीएम किसे चुने कमलनाथ या ज्योतिरादित्य सिंधिया ?

You may have missed

error: Content is protected !!