राजनीति

राजनीति: डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष पद छीने जाने के बाद अब क्या करेंगे सचिन पायलट? जानिए क्या विकल्प बचे है उनके पास…

राजस्थान में सियासी ड्रामा अब अपने चरम पर पहुंच गया है। राज्य के डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष सचिन पायलट की खुली बगावत के बाद कांग्रेस ने उनके खिलाफ बड़ा एक्शन लेते हुए उनको डिप्टी सीएम और प्रदेश अध्यक्ष पद से हटा दिया है। इसके साथ पायलट समर्थक दो और मंत्रियों को भी उनके पद से हटा दिया गया है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि सचिन पायलट अब आगे क्या करेंगे। पूरे घटनाक्रम पर अब तक चुप्पी साधने वाले सचिन पायलट कब सामने आएंगे अब सबकी निगाहें इस बात पर लगी हुई है।

अपने खिलाफ कार्रवाई के बाद सचिन पायलट ने ट्वीट करते हुए लिखा कि सत्य को परेशान किया जा सकता है पराजित नहीं। ये ट्वीट साफ संकेत देता है कि अब सचिन पायलट अपने पत्ते खोल सकते है।उपमुख्यमंत्री पद और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद सचिन पायलट के पास कुल 5 विकल्प हैं इसमें से जो बेहतर लगे उस पर वह कदम आगे बढ़ा सकते हैं।

1. पहला विकल्प यह है कि वह कांग्रेस के अंदर अपने हमउम्र नौजवान नेताओं के जरिए कांग्रेस में सम्मानजनक जगह के लिए बारगेन करें। गौरतलब है कि कांग्रेस के अंदर कई युवा नेता हैं जो लगातार यह कोशिश कर रहे हैं कि सचिन पायलट को मान सम्मान मिले और वह कांग्रेस में बने रहें। ऐसे में इस संकट की घड़ी में ये युवा कांग्रेस आलाकमान पर दबाव डाल सकते हैं। 

2. पायलट के पास दूसरा विकल्प यह है कि अगर उनका अशोक गहलोत मुक्त कांग्रेस ऑपरेशन असफल हो गया है तो वह कांग्रेस में रहकर घर के अंदर ही दोबारा से तब तक कोशिश करते रहें जब तक कि बगावत करने वाले विधायकों की संख्या 25 के ऊपर न चली जाए। 

3. पायलट के पास तीसरा विकल्प यह है कि वो कांग्रेस से अलग संगठन या मोर्चा बनाएं और कांग्रेस को चुनौती दें। फिलहाल इसी ऑप्शन पर सबसे ज्यादा विचार किया जा रहा है कि क्यों नहीं सचिन पायलट अपने सम्मान की रक्षा के लिए अपना अलग रास्ता तय करें।

4. पायलट के पास चौथा ऑप्शन यह है कि वह अपने साथ गए विधायकों को समझाएं कि बीजेपी में उनके मान-सम्मान की रक्षा करेंगे और उनके साथ वह बीजेपी में चले जाएं। हालांकि सचिन पायलट के साथ बहुत सारे नेता ऐसे हैं जो बीजेपी में नहीं जाना चाहते हैं।

5. पायलट के पास पांचवा और आखिरी संभावित ऑप्शन यह है कि सचिन पायलट किसी भी तरह से सरकार को गिराने लायक विधायकों की संख्या इकट्ठा कर लें और अपने अपमान का बदला ले लें। फिर विधायक पद से इस्तीफा देकर वह दुबारा चुनाव लड़ें।

आपको बता दें कि भाजपा ने सचिन पायलट को पार्टी में आने का ऑफर दे दिया है। भाजपा नेता ओम माथुर ने कहा कि सचिन पायलट के पार्टी के दरवाजे खुले है और हम उनका स्वागत करते है। हालांकि इससे पहले मीडिया रिपोर्टस के हवाले से जो खबर आई थी उसमें सचिन पायलट ने भाजपा में जाने की खबरों को खारिज कर दिया था।

राजनीति: क्या होगा सचिन पायलट का अगला कदम? कयासों का दौर जारी, कांग्रेस ने अभी पार्टी से नहीं निकाला…

Related Articles

Back to top button
Close
Close