राजनीति

राजस्थान पॉलिटिक्स अपडेट/ वसुंधरा या राहुल-प्रियंका, पायलट की वापसी में किसका हाथ? सुरजेवाला ने दिया ये बड़ा बयान…

राजस्थान की राजनीति ने अब एक नया मोड़ ले लिया है और इसका कारण है सचिन पायलट की वापसी। कई लोग उनकी वापसी में पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे की भूमिका बता रहे है तो कई इसके पीछे पूरी तरह से राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की ही अहम् भूमिका मान रहे है। इसी बीच कांग्रेस नेता एवं प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने एक बड़ा बयान दिया है। 

सुरजेवाला ने राजस्थान के राजनीतिक घटनाक्रम के पटाक्षेप पर आठ करोड़ प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए इस कामयाबी का श्रेय राहुल और प्रियंका गांधी को दिया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की दूरदृष्टि व सबको साथ लेकर चलने का संकल्प तथा प्रियंका गांधी का सहयोग रंग लाया। साथ ही अशोक गहलोत की परिपक्वता और सचिन पायलट के विश्वास व निष्ठा ने हल निकाला है।

राजस्थान में कांग्रेस नेताओं के फिर एकजुट होने पर सुरजेवाला में कहा कि यह राजस्थान के तरक़्क़ी पथ पर चलने की जीत है। उन्होंने उम्मीद जताई कि अब गिले-शिकवे और कड़वाहट भुलाकर सभी विधायक व कांग्रेस के साथी शक्तिशाली, शांतिप्रिय व तरक़्क़ी पसंद राजस्थान के लिए काम करेंगे। यही वीरभूमि राजस्थान का ध्येय व कर्म है। 

इस दौरान भाजपा की फूट डालो वाली नीति पर हमला बोलते हुए कांग्रेस नेता ने कहा कि राजस्थान में कांग्रेस की एकजुटता भाजपा को करारा जबाब है, जो अल्पमत में होकर व जनता से दरकिनार किए जाने के बावजूद सरकार बनाने के सपने देख रहे थे। उन्होंने कहा कि ये वही हैं जो सब हथकंडे अपनाने के बाद भी भाजपा विधायक दल की बैठक तक नहीं बुला पाए और आख़िर में बाड़ेबंदी करनी पड़ी।

वहीं, कुछ लोगों का मानना है की इसमें पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे का भी बड़ा योगदान है। गौरतलबा है कि  राजस्थान की राजनीति में वसुंधरा राजे के सक्रिय होते ही बहुत कुछ बदल गया। वहीं, वसुंधरा राजे के करीबी एक नेता ने बताया कि उनका मानना है कि सचिन पायलट के पास अशोक गहलोत की सरकार गिराने लायक नंबर नहीं हैं, ऐसे में बागी नेताओं की कोई भी मदद करने से भाजपा को नुकसान हो सकता है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close
Open chat