दुनिया

जब इस्लाम के नाम पर रिहाना पर भड़क गए थे कट्टरवादी, विवादों से पुराना नाता…आइए आज जानते है रिहाना के बारे में…

गानों की सूची से पहले पन्ने पर जगह बनाने वाली रिहाना ने एक पॉप गायिका से वैश्विक हस्ती तक का सफर तय किया है, जिसके बारे में आज भारत के लोग बात करते नहीं थक रहे या और अधिक जानना चाहते हैं। रिहाना के गानों पर शहरों में रहने वाला धनी वर्ग का युवा थिरकता है, आइए आज रिहाना के बारे में जानते हैं।

भारत में जारी किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट कर अंतर्राष्ट्रीय जगत में सुर्खियां बटोर चुकी रिहाना बारबडोस में जन्मी थीं। इस अमेरिकी गायिका ने लोगों के मन में कई सारे सवाल पैदा कर दिए हैं। पॉप गायन की दुनिया में सबसे बड़े नामों में से एक 33 वर्षीय रिहाना ने दिल्ली बॉर्डर पर इंटरनेट बंद करने संबंधी सीएनएन की एक खबर के साथ मंगलवार की रात को ट्वीट किया, “हम इसके बारे में बात क्यों नहीं कर रहे हैं? हैशटैग किसान आंदोलन।”

इससे पहले रिहाना एलजीबीटी के अधिकारों और नस्लवाद जैसे मुद्दों पर मुखर होकर अपनी आवाज बुलंद कर चुकी हैं। पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, जस्टिन बीबर और केटी पेरी के बाद वह ट्विटर पर चौथी सबसे ज्यादा फॉलो की जान वाली हस्ती हैं। भारत के किसान आंदोलन पर किए गए उनके ट्वीट को हजारों लोगों ने रीट्वीट और पसंद किया। इसके बाद कई अन्य मशहूर और बड़ी हस्तियों ने आंदोलन के समर्थन में ट्वीट करना शुरू कर दिया।

इसके बाद भारत में रिहाना को लेकर चर्चा होने लगी और ट्वीट से उपजे विवाद पर विदेश मंत्रालय ने कड़ी प्रतिक्रिया दर्ज कराई। उन्होंने जिस दिन किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट किया, उसी दिन भारत के पड़ोसी देश म्यामां में हुए सैन्य तख्तापलट की आलोचना भी की। रिहाना ने ह्यूमन राइट्स वाच की एक पोस्ट के साथ ट्वीट किया, “म्यामां के लिए प्रार्थना कर रही हूं।”

किसान आंदोलन के प्रति समर्थन और म्यामां के लोगों के प्रति एकजुटता का प्रदर्शन रिहाना के लिए कोई एकदम होने वाली घटना नहीं है। बारबाडोस के सेंट माइकल में 20 फरवरी 1988 को रिहाना का जन्म हुआ था। उनकी मां मोनिका अकाउंटेंट थीं और पिता रोनाल्ड फेंटी गोदाम में काम करते थे। रिहाना ने 18 साल की उम्र में घातक रोगों से जूझ रहे बच्चों की सहायता के लिए ‘बिलीव फाउंडेशन’ की स्थापना की थी।

वर्ष 2012 में उन्होंने क्लारा लायनेल फाउंडेशन को शुरुआत की थी जो विश्वभर में शिक्षा और स्वास्थ्य से जुड़े कार्यक्रमों को पैसा मुहैया करवाता है। रिहाना ने 2017 में फैशन कंपनियों की आलोचना की थी, क्योंकि वह अल्पसंख्यक वर्ग की मॉडलों को “प्रतीक” के तौर पर काम देती थीं। ट्विटर पर उन्होंने एक प्रशंसक के सवाल के जवाब में कहा था, “मुझे कई प्रतिभावान ट्रांसजेंडर महिलाओं के साथ काम करने का मौका मिला है, लेकिन मैं उन्हें कास्टिंग के लिए नहीं लेती। मैं सभी महिलाओं का सम्मान करती हूं। वह ट्रांसजेंडर हैं या नहीं इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।”

उन्होंने कहा था, “मुझे यह सही नहीं लगता कि किसी ट्रांसजेंडर महिला या पुरुष को मार्केटिंग के उपकरण के तौर पर पेश किया जाए। मैंने कई बार देखा है कि कंपनियां यह ट्रांसजेंडर और अश्वेत महिलाओं के साथ करती हैं। यह केवल इसलिए किया जाता है ताकि सबका ध्यान उस पर रहे। यह दुखद है।”

अमेरिका में जब जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या पर विरोध प्रदर्शन हुए थे, तब भी रिहाना ने इस पर आवाज उठाई थी। पॉप गायिका ने महामारी के दौरान अपने एल्बम पर काम करने की बजाय राहत कार्य में हिस्सा लिया था। रिहाना ग्रैमी पुरस्कार जीत चुकी हैं और उनके पास 60 करोड़ डॉलर से अधिक की संपत्ति है। परमार्थ कार्यों के साथ विवादों से भी रिहाना का नाता रहा है। वर्ष 2010 में आए उनके एक गीत के बोल को लेकर विवाद हो गया था और कहा जाने लगा था कि इसमें घरेलू हिंसा को ‘ग्लैमराइज’ किया गया है।

उनके एक अन्य गीत के बोल को लेकर नारीवाद, हिंसा और नस्लवाद जैसे मुद्दों पर बहस छिड़ गई थी। अबू धाबी की शेख जायद ग्रैंड मस्जिद के सामने 2013 में रिहाना ने तस्वीर खिंचवाई थी, जिस पर मस्जिद का प्रबंधन नाराज हो गया था और उन्हें वहां से जाने के लिए कह दिया गया था।

Related Articles

Back to top button
Close
Close
Open chat