ज्योतिष ज्ञान

हर व्यक्ति का होता है लकी नंबर, क्या आपको मालूम है अपना लकी नंबर? ऐसे जानें अपना लकी नंबर

हर व्यक्ति का होता है लकी नंबर, क्या आपको मालूम है अपना लकी नंबर? ऐसे जानें अपना लकी नंबर

सभी लोग इस बात से परिचित हैं कि अंकों का जीवन में काफी महत्व होता है। रूपये-पैसे की गिनती करनी हो या व्यक्ति के उम्र की गिनती करनी हो सभी के लिए अंकों की ही आवश्यकता पड़ती है। व्यक्ति किस तारीख को जन्म लेता है, उसी के आधार पर उसके व्यक्तित्व का निर्धारण होता है। 1 तारीख को जन्मा व्यक्ति बुद्धिमान होता है, वहीँ 2 तारीख को जन्म लेने वाला रोमांटिक होता है। 3 तारीख को जन्म लेने वाला भावुक और 4 तारीख को जन्म्नें वाला खुशमिजाज होता है। ऐसे ही अन्य सभी अंकों के के गुण अंक शास्त्र में बताये गए हैं।
अंकशास्त्र के अनुसार वस्तुओं का चयन करना होता है फलदायी:
केवल 1 से लेकर 9 तक के अंकों वाले व्यक्ति के ही गुणों के बारे में नहीं बताया गया है, बल्कि 11 तारीख को जन्म लेने वाले व्यक्ति के बारे उसके मूलांक 1+1= 2 के आधार पर बताया गया है। अंकशास्त्र के अंतर्गत केवल इसी आपकीतारीख के अंकों के बारे में नहीं जाना जाता है। यह तो केवल आपके व्यक्तित्व के बारे में बताता है। व्यक्ति के भाग्य का पता लगानें के लिए उसके लकी नंबर का होना बहुत जरुरी है। जिस व्यक्ति को अपना लकी नंबर पता होता है, वह अपनेसभी महत्वपूर्ण काम उसी नंबर से जुड़े हुए समय या तारीख को करता है। अंकशास्त्र के आधार पर लकी नंबर के अनुसार वस्तुओं का चयन करना काफी फलदायी और शुभ होता है। क्या आप अपने लकी नंबर के बारे में जानते हैं। अगर नाह तो चिंता मत कीजिये हम आपको बताएँगे।
ध्यान से पढ़कर खुद ही कर पाएंगे शुभ अंकों की गणना:
सबसे पहले आपको अपने जन्मदिन के तारीख की आवश्यकता है। उदहारण के लिए हम किसी एक अंक को चुन लेते हैं आगे की प्रक्रिया को ध्यान से पढ़ें और समझें तभी आप अपने शुभ अंकों की गणना कर पाएंगे। मान लीजिये किसी व्यक्ति का जन्मदिन 12 नवम्बर 1985 है, तो इसके लिए दिन, महीने और साल की अलग-अलग गणना की जाएगी। सबसे पहले तारीख जो 12 है उसे 1+2= 3 बना लें। इसके बाद नवम्बर महिना 1+2=3 अब साल जो 1985 है को 1+9+8+5= 23 प्राप्त होता है। अब हमारे पास तीन अलग-अलग नंबर हैं। इस तरह से 3, 3, 23 इन तीनों को जोडनें पर 29 मिलता है। यह आपका भाग्यांक नहीं होगा।
शुभ अंक जानकर बदल सकते हैं अपना भाग्य:
भाग्यांक अकेला अंक होगा ना कि जोड़ वाला। अब फिर से आपको इस अंक को जोड़ना होगा जबतक एक अकेला अंक ना मिल जाये। 2+9=11, प्राप्त होता है। अब 1+1= 2 मिलता है। जो बताये हुए जन्मदिन का लकी नंबर होगा। इसी तरह से आप अपने लकी नंबरों की गणना कर सकते हैं। बात यही ख़त्म नहीं होती है। आगे हम आपको नंबरों से जुडी बहुत ही रोचक बात बतानें वाले हैं। अपने भाग्यांक के अनुसार आप अपने शुभ दिन, शुभ समय के बारे में जानकर अपना भाग्य बदल सकते हैं।
*- भाग्यांक 1:
जिन लोगों का भाग्यांक 1 होता है उनके लिए शुभ दिन रविवार और बृहसप्तिवार होता है। जनवरी, मार्च, मई, जुलाई और अक्टूबर शुभ महिना होता है। 1, 10, 19, 28 शुभ तारीखें होती हैं। आपके लिए शुभ कार्य इन्ही महीनों दिनों और तारीखों को करनी चाहिए।
*- भाग्यांक 2 और 3:
भाग्यांक 2 के लिए शुभ दिन सोमवार और बुधवार होता है, जबकि शुभ महिना फ़रवरी, अप्रैल, अगस्त और नवम्बर होता है। इनके लिए शुभ तारीख 2, 4, 8, 11, 16, 20, 26, 29 और 31 है। वहीँ 3 भाग्यांक वालों के लिए शुभ दिन मंगलवार और शुक्रवार है। मार्च, मई, जुलाई, जून, सितम्बर और दिसंबर महिना इनके लिए शुभ होता है। 3, 6, 9, 12, 15, 18, 20, 21, 24, 27 और 30 तारीखें इनके लिए शुभ मानी जाती हैं।
*- भाग्यांक 4 और 5:
भाग्यांक 4 के लिए शुभ दिन बुधवार और सोमवार है। अप्रैल, फ़रवरी और अगस्त इनके लिए शुभ महिना है। 2, 4, 8, 13, 16, 20, 22, 26 और 31 इनकी शुभ तारीखें हैं। वहीँ भाग्यांक 5 वालों के लिए शुभ दिन बृहस्तिवार, शनिवार और बुधवार है। मई, जनवरी, मार्च आर जुलाई शुभ महीनें हैं। 5, 10, 14, 19, 23, 25 और 28 शुभ तारीखें हैं।
*- भाग्यांक 6 और 7:
भाग्यांक 6 वालों के लिए शुभ दिन शुकवार और मंगलवार है। जून, सितम्बर और दिस्मबर इनके लिए शुभ महीनें हैं। 6, 9, 15, 18 और 24 इनके लिए शुभ तारीख हैं। वहीँ भाग्यांक 7 वालों के लिए शुभ दिन शनिवार और बृहस्पतिवार है। जुलाई, जनवरी, मार्च और मई शुभ महीनें हैं। इनके लिए शुभ तारीखें 7, 14, 16, 25 और 26 हैं।
*- भाग्यांक 8 और 9:
भाग्यांक 8 वालों के लिए शुभ दिन सोमवार और बुधवार है। जनवरी, अगस्त, फ़रवरी और अप्रैल शुभ महीनें हैं। 4, 8, 16, 17 व 26 इनके लिए शुभ तारीखें हैं। सबसे अंत में भाग्यांक 9 वालों के लिए शुभ दिन मंगलवार और शुक्रवार है। सितम्बर, मार्च और जून शुभ महीनें हैं। 9, 15, 18 और 27 शुभ तारीखें हैं।
Show More

Related Articles

Back to top button
Close
Close