Fri. Jan 24th, 2020

इस राज्य में प्रधानमंत्री पद की पहली पसंद बने राहुल गांधी, सर्वे में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की कम हुई लोकप्रियता…

केंद्र में सत्ता संभाल रही भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने इस साल होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर तैयारियां तेज कर दी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने खुद मोर्चा संभालते हुए कई राज्यों में रैलियों के जरिए प्रचार कार्य आरंभ कर दिया है। हालांकि बीजेपी की इन तैयारियों के बीच एक सर्वे सामने आया है, जो पार्टी के रणनीतिकारों को थोड़ा परेशान कर सकता है। तमिलनाडु को लेकर इंडिया टुडे के पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज (PSE) डेटा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता में कमी दर्ज की गई है, वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी यहां पीएम पद के लिए वोटरों की पहली पसंद बनकर सामने आए हैं।

सर्वे में राहुल गांधी की लोकप्रियता तीन फीसदी बढ़ी

तमिलनाडु को लेकर इंडिया टुडे के ताजा पॉलिटिकल स्टॉक एक्सचेंज (PSE) सर्वे के मुताबिक पिछले तीन महीने में तमिलनाडु में राहुल गांधी की लोकप्रियता में 3 फीसदी का इजाफा हुआ है, दूसरी ओर पीएम मोदी की लोकप्रियता में 1 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। PSE सर्वे में एक और बड़ी बात देखने को मिली है और वो ये है कि इस राज्य में प्रधानमंत्री पद के लिए वोटरों ने पीएम मोदी के मुकाबले राहुल गांधी पर ज्यादा भरोसा जताया है। सर्वे में पीएम के तौर वोटरों की पहली पसंद राहुल गांधी बने हुए हैं, मोदी दूसरे नंबर हैं।

39 फीसदी वोटरों ने राहुल को पीएम के लिए पहली पसंद बताया

PSE सर्वे में 39 फीसदी वोटरों ने राहुल गांधी को प्रधानमंत्री के लिए पहली पसंद बताया है, वहीं अगर तीन महीने पहले का आंकड़ा देखें तो ये 36 फीसदी पर था। वहीं नरेंद्र मोदी की बात करें तो PSE के ताजा सर्वे में 28 फीसदी वोटरों ने प्रधानमंत्री के लिए उन्हें अपनी पसंद बताया है, जबकि तीन महीने पहले हुए सर्वे में 29 फीसदी वोटरों ने मोदी के पक्ष में अपना वोट किया था।

तमिलनाडु में 41 फीसदी वोटर केंद्र सरकार के प्रदर्शन से असंतुष्ट: सर्वे

PSE के ताजा सर्वे पर गौर करें तो एक और बड़ी बात सामने आई है कि केंद्र की एनडीए सरकार के साढ़े चार साल के कामकाज से तमिलनाडु के ज्यादातर वोटर असंतुष्ट नजर आ रहे हैं। जनवरी के इस सर्वे में 41 फीसदी वोटर केंद्र सरकार के प्रदर्शन से असंतुष्ट नजर आए, वहीं करीब 24 फीसदी वोटरों ने केंद्र सरकार के कामकाज पर संतोष जताया है। वहीं अगर तीन महीने पहले का आंकड़ा देखें तो अक्टूबर के सर्वे में 38 फीसदी वोटर केंद्र की बीजेपी सरकार के कामकाज से असंतुष्ट थे, जबकि 24 फीसदी वोटरों ने केंद्र सरकार के कामकाज पर संतुष्टी जताई थी।

तमिलनाडु में स्टालिन मुख्यमंत्री के लिए पहली पसंद

PSE के जनवरी में सामने आए इस सर्वे में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के कामकाज से संतुष्टी जताने वाले वोटरों की संख्या में कोई बदलाव नहीं आया, हालांकि केंद्र सरकार के कामकाज से असंतुष्ट रहने वाले वोटरों का आंकड़ा पिछले 3 महीने में 38 फीसदी से बढ़कर 41 फीसदी पर पहुंच गया। तमिलनाडु की सियासत को लेकर PSE के ताजा सर्वे में कई बड़ी बातें सामने आई हैं। जनवरी के इस सर्वे में प्रदेश में एमके स्टालिन को 43 फीसदी वोटरों ने मुख्यमंत्री के लिए अपनी पहली पसंद बताया है, वहीं तीन महीने पहले हुए सर्वे में स्टालिन को 41% वोटरों ने मुख्यमंत्री के लिए अपनी पहली पसंद बताया था।

रजनीकांत और कमल हासन का क्या रहा हाल

PSE सर्वे के 31 फीसदी वोटरों का मानना है कि एक्टर से नेता बने कमल हासन की राजनीति में सफल होने की ज्यादा संभावना है, वहीं 27 फीसदी ने रजनीकांत के पक्ष में अपनी राय व्यक्त की है। वहीं सीएम को लेकर पूछे गए सवाल पर कमल हासन को 10 फीसदी वोटरों ने मुख्यमंत्री के लिए अपनी पहली पसंद बताया, वहीं रजनीकांत को ताजा सर्वे में 5 फीसदी वोटरों ने ही मुख्यमंत्री के लिए अपनी पसंद बताया।

You may have missed

error: Content is protected !!