पुलिसबिलासपुर

अपहरण और छेड़खानी के आरोप में गिरफ्तार सरपंच को ग्रामीणों ने बताया निर्दोष, आईजी,एसपी से की निष्पक्ष जांच की मांग

बिलासपुर। ग्राम धूमा के सरपंच को निर्दोष बताते हुए न्याय दिलाने आज धूमा ग्रामवासियो ने आईजी और एसपी से गुहार लगाई है ग्रामीणों ने अपहरण एवं छेड़खानी के मामले में पुलिस थाने में बंद सरपंच को तत्काल छोड़ने एवं उच्च अधिकारियों से निष्पक्ष जांच कराने की भी मांग की है।

गौरतलब है की बीते 30 अप्रेल को सिरगिट्टी थानाक्षेत्र की एक नाबालिक लड़की को कुछ समान दिलाने का लालच देकर दुपहिया वाहन सवार एक व्यक्ति स्वमं को ग्राम धूमा का सरपंच बताकर गलत मंशा से सीपत क्षेत्र तरफ ले गया था। किसी तरह वाहन से कूदकर लड़की जैसे तैसे घर पहुंची और परिजनों को पूरी घटना की जानकारी दी जिसके बाद परिजनों ने सिरगिट्टी थान पहुंच कर लड़की बयान पर ग्राम धूमा के सरपंच के ऊपर धारा 363, 354क एवं पास्को एक्ट के तहत अपराध पंजीबद्ध कर सरपंच किशोर कुमार पटेल को सिरगिट्टी पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर सिरगिट्टी थाना लाया गया जिसके बाद बड़ी संख्या में सरपंच के समर्थन में गाँव की महिलाएं एवं पुरुष थाना का घेराव कर दिए जिसे देखते हुए दबाव में थाना प्रभारी ने सरपंच को सशर्त छोड़ दिया था।

वही लड़की ने पहचान के दौरान सरपंच को पहचानने से इनकार भी कर दिया था लेकिन मामले में तूल तब पकड़ा जब लड़की ने एसपी आरिफ शेख को बताया कि मामले में अपराध दर्ज कराने और पहचान करने पर लड़की के परिजनों को जान से मारने की धमकी दी गई थी जिससे वह डर गई थी जिसके बाद एसपी ने सिरगिट्टी पुलिस को सरपंच किशोर पटेल को गिरफ्तार करने का निर्देश दिया जिसे पुलिस पकड़कर थाने ले आई।

वही लड़की ने एसपी के सामने धूमा के सरपंच की पहचान कर ली है। इसी क्रम में आज सरपंच को निर्दोष बताते हुए बड़ी संख्या में ग्रामवासी जिसमे महिला व पुरूष शामिल थे, गाँव के विपक्षियों का षडयंत्र बताते हुए सरपंच को तत्काल पुलिस की गिरफ्त से छोड़ने एवं मामले में उच्च स्तरीय जांच की मांग की गई है।