क्राइमछत्तीसगढ़

मंत्री टीएस के भतीजे सचिन की मौत मामले में नया मोड़, पिता ने कहा- CBI जांच हो, पुलिस इन्वेस्टिगेशन पर भरोसा नहीं…

छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव के भतीजे और सरगुजा जिले के लुंड्रा जनपद पंचायत के उपाध्यक्ष वीरभद्र सिंहदेव उर्फ सचिन की मौत मामले में परिजनों ने सेंट्रल ब्यूरो ऑफ इन्वेस्टिगेशन (CBI) जांच की मांग की है। वीरभद्र सिंह के पिता सोमेश्वर शरण सिंहदेव ने पुलिस जांच पर भरोसा नहीं होने की बात कही है। वीरभद्र की मौत 11 अगस्त को हुई थी। दुर्ग-अंबिकापुर ट्रेन से अंबिकापुर आने के दौरान बेलगहना रेलवे ट्रेक के पास उसका शव बरामद हुआ था।

लुंड्रा जनपद पंचायत के उपाध्यक्ष वीरभद्र सिंहदेव की मौत की CBI जांच कराने मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम धौरपुर को जनप्रतिनिधियों ने ज्ञापन सौंपा है। सोमेश्वर शरण सिंहदेव ने कहा कि घटना संदिग्ध परिस्थितियों में हुई है। सचिन का मोबाइल स्वीच ऑफ था। 2 दिन बाद उनका मोबाइल आरपीएफ को मिला। मोबाइल यदि सीट पर था तब अटेंडेंट ने बैग के साथ मोबाइल क्यों नहीं दिया। सचिन सिंहदेव का शव रेलवे ट्रेक से करीब 15 फीट की दूरी पर मिला था। मामले की जांच कर रही पुलिस कहती है कि शव 5 फीट की दूरी पर था। चलती ट्रेन या बस से कोई गिरेगा तो वह दूर नहीं गिरता है।

ट्रेन में कौन थे, कॉल डिटेल भी नहीं निकाले

सोमेश्वर शरण सिंहदेव ने कहा कि रात 9.55 बजे मुझसे फोन पर बात हुई थी। वे एकदम सामान्य थे। पीएम में चोट ही मौत की वजह बताई गई है। ट्रेन में और कौन-कौन थे, कॉल डिटेल निकाले ही नहीं गए हैं। पुलिस की जांच विस्तृत और व्यापक करने की जरूरत है। रायपुर, बेलगहना, अंबिकापुर तीनों जगहों पर जांच करनी होगी। उन्होंने कहा कि जब विधायक के फालो वाहन को लेकर विवाद हुआ था, जिसमें वीरभद्र को दोषी बताया गया था। तब यहां पदस्थ एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने पूर्वाग्रह के साथ दुर्व्यवहार किया था। वही अधिकारी वर्तमान में बिलासपुर में पदस्थ हैं। मामले में जांच की जवाबदेही एक ऐसे अधिकारी को दी गई है जो अंडर ट्रांसफर है।

भाजपा प्रवक्ता ने की है न्यायिक जांच की मांग

भाजपा ने भी इस मामले को संदिग्ध मानते हुए उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। भाजपा प्रवक्ता अजय चंद्राकर ने मामले में कहा था कि यह किसी एक परिवार का सीमित विषय नहीं है। यह मौत असामान्य प्रकृति का है। घटना संदिग्ध है। इसकी हाईकोर्ट के जज से न्यायिक जांच होनी चाहिए। भाजपा द्वारा जांच की मांग को लेकर मुख्यमंत्री बघेल ने कहा था कि टीएस सिंहदेव से बात हुई है। यदि परिजन जांच चाहते हैं तो हमें कोई दिक्कत नहीं है।

बृहस्पति से विवाद के बाद चर्चा में थे सचिन

वीरभद्र सिंह 24 जुलाई 2021 में विधायक बृहस्पति सिंह द्वारा उनके खिलाफ जानलेवा हमला करने की कोशिश के आरोप के बाद चर्चा में आए थे। विधायक बृहस्पति सिंह ने मंत्री टीएस सिंहदेव पर भी आरोप लगा दिया कि वे उनकी हत्या कराना चाहते हैं। बाद में विधायक बृहस्पति सिंह ने मंत्री सिंहदेव पर लगाए आरोप के लिए माफी मांग ली थी। यह विवाद बृहस्पति सिंह की फालो वाहन द्वारा वीरभद्र सिंहदेव के वाहन को साइड नहीं देने पर हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.