खेल

मुख्यमंत्री के “छत्तीसगढ़िया ओलंपिक” में गड़बड़ी, लगाया कोच और रैफरी पर आरोप, बालिका खो-खो खिलाड़ी पहुंचीं कलेक्ट्रेट…

बिलासपुर। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के निर्देश में छत्तीसगढ़ के पारंपरिक खेलों को बढ़ावा देने के उद्देश्य से छह अक्टूबर से पूरे प्रदेश में छत्तीसगढ़िया ओलंपिक का आयोजन किया जा रहा है। बिलासपुर में भी निगम के जोन क्षेत्र के अलग-अलग वार्डों में ओलंपिक खेलों का आयोजन किया जा रहा है। इसमें खिलाड़ी बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे है। विजेता टीम और खिलाड़ी ओलंपिक के अगले जोन स्तर के लिए चयनित हो रहे हैं।

रहंगी जोन और बेलतरा के बीच खो खो खेल प्रतियोगिता का आयोजन हुआ और बेलतरा की टीम को विजेता घोषित कर दिया गया। आज रहंगी के खिलाड़ी उनके साथ खेल के दौरान हुए चीटिंग का आरोप लगते हुए दो दर्जन से अधिक बालिका खिलाड़ी कलेक्टर को ज्ञापन देने पहुंचे और रैफरी और खेल मैनेजमेंट पर गंभीर आरोप लगाया है, वीडियो दिखाते उन्होंने कहा की षड्यंत्र के तहत हमारी पॉइंट को काटा गया और खेल के दौरान पूरा समय रैफरी हमारे टीम के खिलाड़ियों के सामने खड़े हो जाते थे जिससे हमे खेलने में दिक्कत होती थी। ज्ञापन के माध्यम से कलेक्टर से मांग की है की वीडियो को देख कर खुद ही तय करें की हमारे साथ खेल के दौरान कई बार चीटिंग किया गया है। उनका कहना है की हमारी टीम को विजेता घोषित करे या तो फिर से प्रतियोगिता आयोजित किया जाए। हम दावा करते हैं कि हम मैच जीत कर साबित कर देंगे की हम सही है।

छत्तीसगढ़िया ओलंपिक में 14 खेलों को शामिल किया गया है। इसमे गिल्ली-डंडा, लंगड़ी दौड़, पिट्ठुल, संखली, कबड्डी, खो-खो, रस्साकसी, बांटी(कंचा), गेड़ी दौड़, फुगड़ी, भौंरा, 100 मीटर दौड़, लंबी कूद और बिल्लस शामिल हैं।