क्राइमदुनिया

सावधान: नेपाल में बैठ भारतीयों को ठगता था चीनी नागरिक, लोन ऐप के जरिए करता था ब्लैकमेल, 35 गिरफ्तार…

अवैध गतिविधियों और लेनदेन के संदेह में काठमांडू के एक कॉल सेंटर से सोमवार को एक चीनी नागरिक सहित 35 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इनमें एक महिला सहित दो भारतीय भी शामिल हैं। दोनों उत्तर प्रदेश के निवासी हैं। ये लोग काठमांडू के टिंकून इलाके में स्थित स्काई वर्ल्ड सर्विस सेंटर के कर्मचारी थे। इस कंपनी का मालिक एक 43 वर्षीय चीनी नागरिक है।

स्थानीय मीडिया के अनुसार पुलिस ने छापेमारी के दौरान 8,29,000 रुपये, 362 लैपटॉप और 748 डेस्कटॉप भी बरामद किया है। जिला पुलिस कार्यालय काठमांडू के प्रवक्ता दिनेशराज मैनाली ने कहा, “गिरफ्तारी अवैध गतिविधियों और लेनदेन के संदेह में की गई थी। पुलिस का अनुमान है कि कॉल सेंटर में चीनी निवेश है। इस कॉल सेंटर में 2,000 युवा काम कर रहे हैं।”

जांच के दौरान पता चला कि वैद्य संगठन नाम की संस्था लीज परिसर में कॉल सेंटर चला रही है। यह संगठन, चीनी एप्लीकेशन का उपयोग करके भारतीय नागरिकों को उच्च ब्याज दरों पर ऋण प्रदान करता है। पुलिस ने खुलासा किया कि जिस घर में कॉल सेंटर संचालित किया जा रहा था, वह फेडरेशन ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के पूर्व अध्यक्ष सूरज वैद्य का था।

पुलिस के मुताबिक यहां कॉल सेंटरों से कई चीनी लोगों को गिरफ्तार किए जाने के बाद चीनी निवेशक अब अपनी कंपनियों को चलाने के लिए भारतीयों को निशाना बना रहे हैं। कॉल सेंटर में कार्यरत कर्मचारियों के अनुसार वहां केवल वही कार्यरत हैं जो हिंदी भाषा में पारंगत हैं। कॉल सेंटर भारतीय नागरिकों को ऋण प्रदान करता है और वहां काम करने वाले कर्मचारी ऋण वसूली पर काम कर रहे हैं।

पुलिस के मुताबिक कंपनी भारतीय नागरिकों द्वारा उपयोग किए जाने वाले मोबाइल फोन पर ऋण के बारे में बड़े पैमाने पर संदेश भेजते थे और उनसे ऋण लेने के लिए कहते थे। स्थानीय मीडिया की रिपोर्ट के अनुसार, उधारकर्ता का विवरण इन केंद्रों द्वारा उपयोग किए जाने वाले चीनी ऐप में दर्ज किया जाता था और वसूली में विफलता पर उधारकर्ताओं को व्यक्तिगत डेटा और तस्वीरों के दुरुपयोग के बहाने इन कॉल सेंटरों से धमकियां मिलती थीं।

उधार देने के लिए उपयोग किए जाने वाले इन चीनी ऐप्स के सर्वर मकाऊ, हांगकांग और चीन में स्थित हैं। एक स्थानीय पुलिस अधिकारी ने कहा कि पुलिस ऐसे कॉल सेंटरों से लोगों को गिरफ्तार कर रही है लेकिन चूंकि ये सर्वर ऑफलाइन हैं और ऐसे में अवैध कारोबार की जांच करना चुनौतीपूर्ण है। बतादें कि हाल ही में नेपाल में कॉल सेंटर के नाम पर कई अवैध लेनदेन हुए हैं। पुलिस की जांच से पता चलता है कि नेपाल में अवैध गिरोह सक्रिय हैं।

इससे पहले रविवार को पुलिस ने जानकीनगर, रूपन्देही में व्यू स्काई बिजनेस सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड में छापा मारा और कॉल सेंटर से नौ लोगों को गिरफ्तार किया जो जानकीनगर के रहने वाले थे। पुलिस ने बताया कि एक भारतीय नागरिक समेत नौ आरोपी भी हैं। भारतीय नागरिकों को ठगने और मनी लॉन्ड्रिंग के लिए परदे के पीछे का उपयोग बड़े पैमाने पर है। जांच से पता चला है कि इनमें से अधिकतर घोटालों और कदाचारों में चीनी नागरिक या फर्म शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.