अन्यस्वास्थ्य

अब हरे रंग की नहीं, सफेद रंग की होगी Sprite की बोतल, जानिए आखिर 60 साल बाद क्यों हुआ बदलाव?…

गर्मियों के मौसम में स्प्राइट (Sprite) सबसे अधिक पीने वाले कोल्ड ड्रिंक्स में से एक है। हरे रंग की बोतल वाला स्प्राइट का रंग बदलने वाला है, जी हां, अब हरे रंग की स्प्राइट की बोतल सफेद रंग की होने वाली है। कंपनी ने 60 सालों बाद हरे रंग की बोतल को सफेद रंग में बदलने का फैसला किया है। एक अगस्त से स्प्राइट की हरे रंग वाली बोतल नजर नहीं आने वाली हैं। कंपनी ने इसका नया लुक भी जारी किया है।

आखिर कंपनी क्यों बदल रही स्प्राइट की बोतल की रंग

स्प्राइट की बनाने वाली अमेरिकी कंपनी ”कोका कोला” ने 60 सालों बाद पॉपुलर कोल्ड ड्रिंक को हरे रंग की जगह सफेद या ट्रांसपेरेंट बोतल बनाने का फैसला किया है। कंपनी ने कहा कि सफेद रंग की बोतल ज्यादा टिकाऊ और पर्यावरण के अनुकूल है। स्प्राइट की मूल कंपनी, कोका-कोला कंपनी ने कहा कि नया रूप 1 अगस्त, 2022 से लागू किया जाएगा। कोका-कोला कंपनी के अनुसार, बोतल की पैकेजिंग को बदलने का निर्णय ‘प्लास्टिक पैकेजिंग के लिए एक परिपत्र अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए किया गया था।

पर्यावरण के प्रति अपनी जिम्मेदारी को निभाते कंपनी ने लिया ये फैसला

”कोका कोला” ने कहा कि हम अपनी पर्यावरण के प्रति अपनी जिम्मेदारी को निभाने के लिए ये फैसला किया है। कंपनी ने कहा कि अब सफेद रंग की बोतल को हम रिसाइकिल करके फिर से नया बोतल बना सकते हैं। इसलिए हमने हरे रंग की बोतल को बंद करने का फैसला किया है। हालांकि कंपनी ने यह भी कहा है कि साइकिल करके इससे अन्य प्रोडक्ट बनाया जा सकता है।

हरे रंग की बोतल से दोबारा नहीं बनाई जा सकती है बोतल

कंपनी ने कहा है कि हरे रंग की प्लास्टिक बोतल पॉलीइथाइलीन टेरेफ्थेलेट (पीईटी) से बनाई जाती है। हरे रंग की बोतल को रिसाइकिल करके अक्सर कालीन और कपड़ों जैसे सिंगल यूज वाले वाले प्रोडक्ट बनाए जा सकते हैं। कंपनी ने कहा है कि अगर हम सफेद बोतल का इस्तेमाल करते हैं, तो इसको रिसाइकिल करके दोबारा बोतल बना सकते हैं। कंपनी ने यह भी कहा है कि हरे रंग की बोतल को रिसाइकल करने का काम भी आसान नहीं है।

हर देश में जल्द नहीं दिखेगी स्प्राइट की सफेद रंग की बोतल

कंपनी ने कहा कि सबसे पहले हम नई सफेद रंग की बोतल को लॉन्च नॉर्थ अमेरिका में करेंगे। उसके बाद ये धीरे-धीरे भारत समेत दुनियाभर के कई देशों में दिखने लगेंगे। कंपनी ने कहा कि हर साल बोतलें बनाने के लिए करीब 30 लाख टन प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है। कोका कोला का साल 2021 का रेवेन्यू 38.66 अरब डॉलर यानी 3 लाख करोड़ का था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.