छत्तीसगढ़स्वास्थ्य

छत्तीसगढ़: पुलिस अकादमी में स्वाइन फ्लू का कहर, 5 DSP संक्रमित, पुलिस ट्रेनिंग हुई रद्द, सभी को भेजा घर…

कोरोना वायरस का खतरा अभी भी नहीं टला है और छत्तीसगढ़ में स्वाइन फ्लू के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं। इस बीच छत्तीसगढ़ राज्य पुलिस...

कोरोना वायरस का खतरा अभी भी नहीं टला है और छत्तीसगढ़ में स्वाइन फ्लू के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं। इस बीच छत्तीसगढ़ राज्य पुलिस प्रशिक्षण अकादमी तक भी वायरस पहुँच गया है। यहां कुल 5 DSP के स्वाइन से संक्रमित होने की पुष्टी की गई है। सभी संक्रमितों को उनके घर रवाना कर दिया गया है।बहराहल छत्तीसगढ़ में स्वाइन फ्लू के मामले बढ़ने के बाद से ही स्वास्थ्य विभाग ने अलर्ट जारी किया हुआ है।

पुलिस ट्रेनिंग हुई रद्द

मंगलवार को रायपुर CMHO की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार रायपुर में कुल 8 नए केस सामने आए हैं. जिसमें से 5 प्रकरण राज्य पुलिस प्रशिक्षण अकादमी के हैं। यहां ट्रेनिंग ले रहे 5 डीएसपी में स्वाइन फ्लू की पुष्टी हुई है। संक्रमण के मद्देनज़र फिलहाल क्लास को सस्पेंड कर दिया गया है।

4 की हो चुकी है मौत

पुलिस अकादमी में कुल 21 सैंपल लिए गए थे, जिसमें से 5 स्वाइन फ्लू संक्रमित पाए गए हैं। इस प्रकार राजधानी रायपुर में स्वाइन फ्लू मरीज़ों की तादाद बढ़कर 140 पहुंच गई है। मौजूदा स्थिति में सक्रिय मरीज़ों की संख्या 68 है। छत्तीसगढ़ में रायपुर स्वाइन फ्लू का हॉटस्पॉट बन रहा है। इस सीज़न में स्वाइन फ्लू से 4 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य पुलिस प्रशिक्षण अकादमी तक भी वायरस पहुँच गया है। यहां कुल 5 DSP के स्वाइन से संक्रमित होने की पुष्टी की गई है। सभी संक्रमितों को उनके घर रवाना कर दिया गया है।

छत्तीसगढ़ में अलर्ट जारी

छत्तीसगढ़ में स्वाइन फ्लू के लगातार नए मरीजों की पहचान की रही है। इस बीमारी से कई मरीजों ने जान भी जा चुकी है,जिसके कारण छत्तीसगढ़ स्वास्थ्य विभाग इस बीमारी को लेकर अलर्ट भी जारी किया है। स्वास्थ्य विभाग ने जनता से अपील की है कि शुरुआती लक्षण दिखने बाद तत्काल जांच करवाएं। कोरोना और स्वाइन फ्लू के लक्षण एक जैसे होने की वजह से मरीजों को अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

स्वाइन फ्लू की पहचान

छत्तीसगढ़ में स्वास्थ्य विभाग के आला अधिकारी डॉ सुभाष मिश्रा का कहना है कि स्वाइन फ्लू से संक्रमित मरीज को तेज बुखार के साथ खांसी, नाक बहना, गले में खराश, सिर दर्द, बदन दर्द, थकावट, उल्टी, दस्त, छाती में दर्द, रक्तचाप में गिरावट, खून के साथ बलगम आना और नाखूनों का नीला पड़ने जैसे लक्षण हो सकते हैं। उन्होंने बताया कि इससे बचने के लिए भीड़ भाड़ में जाने से बचना चाहिए। इसके अलावा कोरोना वायरस के लिए जारी गाइडलाइन की तरह ही समय समय पर हाथ धोने के साथ मास्क का इस्तेमाल करना चाहिए।

यहां करवाएं जांच

छत्तीसगढ़ के सभी मेडिकल कॉलेजों में स्वाइन फ्लू के टेस्ट की सुविधा है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, सिविल अस्पतालों, जिला अस्पतालों और मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में इसका इलाज किया जा सकता है। जिस तरह कोरोना से बचाव के लिए वैक्सीन उपलब्ध है, उसी तरह ही स्वाइन फ्लू से बचाव के लिए इन्फ्लूएंजा वैक्सीन का उपयोग होता है। इस वैक्सीन से स्वाइन फ्लू के कारण से होने वाली गंभीर समस्याओं से बचने में आसानी होती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.