खेल

Rishabh Pant poor form: रिषभ के कारण संन्यास नहीं ले रहे हैं धोनी, शास्त्री बोले-तबला बजाने नहीं आया

नई दिल्ली (एजेंसियां)। भारतीय क्रिकेट में इस समय एमएस धोनी और रिषभ पंत सुर्खियों में हैं। धोनी संन्यास की अटकलों के लिए चर्चाओं में हैं तो रिषभ को खराब बल्लेबाजी के कारण काफी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि ये दोनों मामले आपस में जुड़े नजर आ रहे हैं। अब नया चौंकाने वाला खुलासा हुआ है कि धोनी खुद ही रिषभ को अपने विकल्प के तौर पर तैयार करना चाहते हैं और इसके लिए उन्होंने बोर्ड को समय दिया है और खुद संन्यास नहीं लिया है। उधर टीम के हेड कोच रवि शास्त्री ने भी कहा कि टीम को रिषभ की काबिलियत पर पूरा भरोसा है और उन्हें पूरा साथ दिया जा रहा है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक BCCI, सीनियर चयन समिति और टीम प्रबंधन सभी एकमत से कह चुके हैं कि रिषभ पंत ही धोनी के सबसे बेहतर विकल्प हैं। उन्हें तैयार करने के लिए पर्याप्त मौके दिए जाएंगे। यहां तक की ये भी घोषणा की गई धोनी के विकल्प के तौर पर रिषभ पंत सबकी स्वाभाविक पसंद हैं। इतना ही नहीं बोर्ड ने रिषभ को तैयार करने की जिम्मेदारी भी धोनी को ही सौंपी। रिषभ तैयार हो सके, इसलिए धोनी ने बोर्ड को समय दिया। साथ ही धोनी ने ये आश्वासन भी दिया कि अगले टी20 विश्व कप के लिए भी वे उपलब्ध हैं और संन्यास नहीं लेंगे लेकिन उनके विकल्प के तौर पर रिषभ को तैयार किया जाए।

फिलहाल धोनी ने क्रिकेट से ब्रेक लिया हुआ है। इंग्लैंड में हुए वर्ल्ड कप के बाद उन्होंने कोई मैच नहीं खेला। वेस्टइंडीज और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सीरीज में वे नहीं खेले हैं। खबर मिली है कि उन्होंने अपना ये ब्रेक बढ़ा दिया है और वे नवंबर में बांग्लादेश के खिलाफ होने वाली सीरीज में भी नहीं खेलेंगे। संभावना है कि दिसंबर तक फील्ड पर लौट सकते हैं।

शास्त्री ने ये कहा रिषभ के लिए

टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री हालांकि रिषभ पंत के समर्थन में आए हैं। शास्त्री ने उन्हें वर्ल्ड क्लास मैच विनर बताते हुए कहा कि टीम उन्हें हर तरह का समर्थन दे रही है। वनडे और टी20 में उनके जैसे बहुत कम खिलाड़ी हैं। जरुरत थोड़ी जिम्मेदारी के साथ खेलने की है।

शास्त्री ने कहा- मैं टीम का कोच हूं। खिलाड़ियों की गलतियां बताना मेरा काम है। मैं यहां तबला बजाने के लिए नहीं हूं। इसलिए ही मैंने पिछले दिनों रिषभ को अच्छा खेलने की चेतावनी दी थी। मेरा उद्देश्य ये था कि वे जिम्मेदारी से खेलें। वे बेहद काबिल खिलाड़ी हैं और टीम को उनकी काबिलियत का लाभ मिलना चाहिए। बहरहाल हमें उम्मीद है कि वे जल्द ही लय हासिल करेंगे।